Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इंदौर एकदिवसीय : दक्षिण अफ्रीका को हरा भारत ने बराबर की सीरीज 

  |  2015-10-14 18:00:10.0

india-africaइंदौर, 14 अक्टूबर.  कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और गेंदबाजों के संयुक्त प्रदर्शन के बल पर भारत ने बुधवार को होल्कर क्रिकेट स्टेडियम में हुए दूसरे एकदिवसीय मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 22 रन से हरा दिया। इस जीत के साथ भारत ने पांच मैचों की श्रृंखला में 1-1 से बराबरी कर ली।


टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम धौनी (नाबाद 92) और अजिंक्य रहाणे (51) की पारियों के बावजूद दक्षिण अफ्रीका के सामने मात्र 248 रनों का लक्ष्य रख सकी थी, लेकिन गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए दक्षिण अफ्रीकी टीम को 43.4 ओवरों में 225 रनों पर समेट दिया।

धौनी को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल ने हाशिम अमला (17), फॉफ डू प्लेसिस (51) और ज्यां पॉल ड्यूमिनी के बेहद अहम तीन विकेट चटकाए। अनुभवी स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने क्विंटन डी कॉक (34) और फरहान बेहरादीन (18) की पवेलियन की राह दिखाई, जबकि सबसे खतरनाक माने जाने वाले अब्राहम डिविलियर्स (19) की विकेट मोहित शर्मा ने लिया।

भुवनेश्वर ने भी आखिरी ओवरों में बेहद कसी हुई गेंदबाजी की और तीन विकेट अपने नाम किए।

औसत लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीकी टीम को अमला और डी कॉक ने सहज शुरुआत दिलाई। सातवें ओवर में परिवर्तन के तौर पर लाए गए स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल ने अपने पहले ही ओवर में अमला का विकेट ले भारत को पहली सफलता दिलाई।

डी कॉक भी जल्द ही हरभजन का शिकार हो गए। उनका कैच मोहित शर्मा ने लिया।

इसके बाद हालांकि डू प्लेसिस और ड्यूमिनी ने धैर्यपूर्वक खेलते हुए तीसरे विकेट के लिए 82 रन जोड़ डाले और दक्षिण अफ्रीकी टीम सधे कदमों से लक्ष्य की ओर बढ़ती नजर आने लगी थी।

तभी अपना दूसरा स्पेल लेकर आए पटेल ने लगातार दो ओवरों में दोनों सध चुके बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखा दी और मैच ने जैसे यू टर्न ले लिया। भुवनेश्वर ने डेविड मिलर को खाता खोलने का भी मौका नहीं दिया।

जल्द-जल्द गिरे इन तीन विकेटों के बाद दक्षिण अफ्रीकी टीम बैकफुट पर नजर आने लगी। हालांकि अभी भी क्रीज पर कप्तान डिविलियर्स और फरहान बेहरादीन (18) के रूप में आखिरी विशेषज्ञ बल्लेबाजों की जोड़ी मौजूद थी और लक्ष्य भी बड़ा नहीं था।

मोहित ने इस बीच डिविलियर्स को विराट कोहली के हाथों कैच करा भारत के सबसे बड़े खतरे को टाल दिया।

पिछले मैच के हीरो रहे युवा तेज गेंदबाज कैगिसो रबाडा (नाबाद 19) ने इस बीच बल्ले से अच्छे हाथ दिखाए, हालांकि वह एक छोर थामे संघर्ष करते रहे और दूसरे छोर से दक्षिण अफ्रीका के सारे विकेट गिर गए।

इससे पहले, शीर्ष बल्लेबाजों के स्तरहीन प्रदर्शन के बीच धौनी की कप्तानी पारी की बदौलत भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में नौ विकेट पर 247 रन बनाए। धौनी के अलावा अजिंक्य रहाणे (51) ने उल्लेखनीय पारी खेली।

दूसरे ही ओवर में रबाडा की गेंद पर रोहित शर्मा (3) के क्लीन बोल्ड होने के बाद रहाणे ने शिखर धवन (23) के साथ 56 रन जोड़ पारी संभालने की पूरी कोशिश की।

लेकिन इसके बाद भारतीय पारी ऐसी लड़खड़ाई की 124 रनों पर उसके छह बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे।

धवन को मोर्ने मोर्केल ने 59 के कुल योग पर ज्यां पॉल ड्यूमिनी के हाथों कैच कराया, जबकि विराट कोहली (12) दुर्भाग्यशाली रहे और रहाणे के साथ तालमेल की कमी की वजह से रन आउट हो पवेलियन लौटे।

100 रन के भीतर शीर्ष तीन बल्लेबाज गंवा चुकी भारतीय टीम की पारी आगे बढ़ाने कप्तान धौनी उतरे। धौनी और रहाणे से भारतीय दर्शकों को काफी उम्मीदें थीं। दोनों के बीच 20 रनों की साझेदारी भी हुई, लेकिन लगातार दूसरा अर्धशतक लगाने के बाद रहाणे इमरान ताहिर की बेहतरीन स्पिन गेंद पर बोल्ड हो गए।

लेग विकेट से बाहर पटकी हुई गेंद पर रहाणे ने स्वीप का प्रयास किया, लेकिन गेंद फिरकी लेती हुई लेग स्टंप से जा टकराई। रहाणे ने 63 गेंदों में छह चौके लगाए।

रहाणे के जाने के बाद भारतीय पारी मुश्किल में नजर आने लगी थी, लेकिन सुरेश रैना के शून्य पर लौटने के साथ सम्मानजनक स्कोर भी दूर नजर आने लगा था।

लेकिन धौनी ने जिजीविषा दिखाते हुए बेहद धैर्य के साथ क्रीज पर अपने पैर जमाए रखे। धौनी ने भुवनेश्वर कुमार (14) और हरभजन सिंह (22) के साथ क्रमश: 41 और 56 रनों की साझेदारी कर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

19वें ओवर में मैदान में उतरे धौनी अंत तक नाबाद रहे। उन्होंने 86 गेंदों की अपनी बेहतरीन जुझारू पारी में सात चौके और चार छक्के लगाए। धौनी की बदौलत भारतीय टीम ने आखिरी के 10 ओवरों में 82 रन जोड़े।

दक्षिण अफ्रीका के लिए डेल स्टेन ने सर्वाधिक तीन, जबकि मोर्ने मोर्केल और इमरान ताहिर ने दो-दो विकेट चटकाए। पिछले मैच के हीरो रहे रबाडा एकमात्र विकेट हासिल कर सके। ज्यां पॉल ड्यूमिनी पांच से अधिक की इकॉनमी से रन लुटाने वाले एकमात्र गेंदबाज रहे।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top