Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्र संघ और कुलपति फिर आमने सामने

 Tahlka News |  2016-05-03 05:59:59.0

इलाहाबाद। पूरब का आक्सफोर्ड कही जाने वाली इलाहाबाद सेंट्रल युनिवर्सिटी फिर से गरम हो गयी है. छात्र संघ अध्यक्ष और कुलपति के बीच लडाई ने एक बार फिर से हिंसक रूप लेना शुरू कर दिया है.richa hangalu

कुलपति रतन लाल हंगलू और छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह ने एक-दूसरे के खिलाफ  लाखों रूपये के घोटाले का आरोप लगाया है। कुलपति  का साफ़ कहना है कि उन्होंने छात्रसंघ अध्यक्ष का घोटाला पकड़कर फर्जी बिल पास करने से इंकार कर दिया। इसलिए वह ऑफ लाइन इंट्रेंस एग्जाम के नाम पर कैम्पस का माहौल खराब कर रही है। जबकि छात्र संघ अध्यक्ष ऋचा सिंह का कहना है कि वीसी ने खुद काफी गड़बड़ियां की है। और अपने खिलाफ हो रहे आंदोलन को कमजोर करने के लिए वह उन पर फर्जी आरोप लगा रहे हैं।


वीसी हंगलू के मुताबिक़ छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह ने कार्यक्रमों के नाम पार तकरीबन साढ़े दस लाख रूपये के फर्जी बिल लगाए हैं। इस फर्जीवाड़े को पकड़कर उन्होंने जांच बिठा दी तो इससे तिलमिलाकर छात्रसंघ अध्यक्ष छात्रों को बेवजह के मुद्दे पर बरगलाकर कैम्पस का माहौल खराब कर रही हैं।

वीसी प्रोफ़ेसर रतन लाल हंगलू ने सोमवार की रात मीडिया को बुलाकर छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह पर न सिर्फ बेहद गंभीर आरोप लगाए, बल्कि यह भी कहा कि आफ लाइन इंट्रेंस एग्जाम के नाम पर चलाया जा रहा आंदोलन सिर्फ धोखा है और छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा का असली मकसद लाखों के घोटाले में अपने खिलाफ हो रही कार्रवाई को रोकना है।

दूसरी तरफ युनिवर्सिटी छात्रसंघ की पहली निर्वाचित महिला अध्यक्ष ऋचा ने अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए उलटे वीसी पर ही लाखों के घोटाले का आरोप लगा डाला। छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा के मुताबिक़ ऑनलाइन इंट्रेंस एग्जाम के लिए वीसी ने कोई टेंडर नहीं निकाला और मनमाने तरीके से सीधे तौर पर एक कंपनी को इसका ठेका दे दिया। ऋचा के मुताबिक़ वीसी ने इस मनमाने फैसले से लाखों रूपये डकार लिये है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top