Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

खुलासा: नेहरु ने नेताजी को कहा था- 'WAR CRIMINAL'

  |  2016-01-23 06:51:12.0

a3तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्‍ली, 23 जनवरी. आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती है। भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस से संबंधित 25 फाइलों की डिजिटल कॉपी को हर महीने सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध कराने की योजना बनाई है। इस कड़ी में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेताजी से संबंधित 100 सीक्रेट फाइलों को नेताजी के परिजनों की मौजूदगी में सार्वजनिक करेंगे। इनमें एक चिट्ठी वह भी होगी, जिसमें तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने बोस के लिए युद्ध अपराधी शब्द का इस्तेमाल किया था।


नेहरू की इस चिट्ठी में क्या है
नेहरू ने इंग्लैंड के तत्कालीन पीएम क्लीमेंट एटली को लिखी इस चिट्ठी में कहा है- 'मुझे भरोसेमंद सूत्र से पता चला है कि सुभाष चंद्र बोस, जो आपके युद्ध अपराधी हैं, उन्हें स्टालिन ने रूस में घुसने की मंजूरी दे दी है। यह रूस का धोखा है, क्योंकि रूस ब्रिटिश-अमेरिकन गठबंधन का मित्र देश है। उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था। इस पर आपको जो सही लगे वह कार्रवाई करें।' हालांकि चिट्ठी पर नेहरू का सिर्फ नाम लिखा है, उनका हस्ताक्षर नहीं है।


a2हटेगा मौत के सस्पेंस से पर्दा
हाल ही में ब्रिटेन की वेबसाइट bosefiles.info ने दावा किया था कि सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु ताईवान में हुए प्लेन क्रेश में हुई थी। वेबसाइट ने अपने दावे को सही ठहराते हुए कथित चश्मदीदों के बयान भी जारी किए हैं। इससे पहले भी नेताजी के जीवन के दूसरे पहलूओं, खासकर उनकी गुमशुदगी के दिनों को लेकर कई उद्भेदन करने वाली इस वेबसाइट का कहना है कि 18 अगस्त 1945 की रात को ही बोस का देहांत हुआ था। चश्मदीदों के तौर पर नेताजी के एक करीबी सहयोगी, दो जापानी डॉक्टर, एक एंटरप्रेटर और एक ताईवानी नर्स को शामिल किया गया है।


क्या कुछ लिखा है वेबसाइट ने
वेबसाइट में लिखा है कि सुभाष चंद्र बोस के सहायक कर्मी कर्नल हबीबुर रहमान ने हादसे के छह दिन बाद 24 अगस्त 1945 को एक लिखित और हस्ताक्षरित बयान दिया था। रहमान ने बयान में कहा, 'निधन से पहले बोस ने मुझसे कहा था कि उनका अंत समीप है। उन्होंने मुझसे उनकी ओर से यह संदेश देशवासियों को देने कहा था- मैं भारत की आजादी के लिए अंत तक लड़ा और अब मैं उसी प्रयास में अपना जीवन दे रहा हूं। देशवासी स्वतंत्रता संघर्ष जारी रखें जबतक कि देश स्वतंत्र न हो जाए। आजाद हिंद जिंदाबाद।'

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top