Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गणतंत्र दिवस के अवसर पर कश्मीर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

  |  2016-01-23 11:40:21.0

j&kजम्मू/श्रीनगर, 23 जनवरी| जम्मू एवं कश्मीर में गणतंत्र दिवस के अवसर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। सुरक्षा एजेंसियां व सुरक्षा बल पठानकोट में हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर गणतंत्र दिवस कार्यक्रमों की सुरक्षा-व्यवस्था चाक-चौबंद करने में जुटी हैं। एक खुफिया अधिकारी ने बताया, "गणतंत्र दिवस के अवसर पर होने वाले कार्यक्रमों की सुरक्षा पुख्ता करने को लेकर रोजाना समीक्षा बैठक हो रही है।"


राज्य में परेड और झंडोत्तोलन का मुख्य कार्यक्रम जम्मू के मौलाना आजाद स्टेडियम में किया जाएगा, जहां राज्यपाल एन.एन. वोहरा परेड की सलामी लेंगे। इस स्टेडियम की सुरक्षा में 1,000 से ज्यादा सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है। शनिवार को परेड की अंतिम रिहर्सल के बाद स्टेडियम की सुरक्षा सेना के हवाले कर दी जाएगी।


1995 में जब तत्कालीन राज्यपाल के.वी. कृष्ण राव इस स्टेडियम में भाषण दे रहे थे तो वहां कई विस्फोट हुए थे, जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई थी और 60 अन्य घायल हो गए थे। वहीं, अभी तक राज्य में सरकार का गठन नहीं होने के कारण कश्मीर के संभागीय आयुक्त असगर सामून श्रीनगर के बख्शी स्टेडियम में परेड की सलामी लेंगे।


सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरा, इलेट्रॉनिक नियंत्रित सुरक्षा उपकरणों और सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के अलावा ड्रोन का भी प्रयोग किया जाएगा। जम्मू एवं श्रीनगर आनेवाले सभी वाहनों की कड़ी तलाशी हो रही है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पठानकोट आतंकवादी हमले के मद्देनजर इस बार सुरक्षा इंतजाम में खास सावधानी बरती जा रही है।


उन्होंने बताया कि जम्मू, सांबा और कठुआ में 210 किलोमीटर लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा लगती है, जहां से पूर्व में कई बार घुसपैठ हुई है। इसके मद्देनजर हर साल यहां सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए जाते हैं और इस बार भी ऐसा किया जा रहा है। वहीं, 26 जनवरी को सभी अलगाववादी नेताओं सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारूख और मुहम्मद यासीन मलिक ने पूरी तरह बंद का आह्वान किया है।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top