Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गरीबी पर कन्हैया के विचार से प्रभावित हैं श्री श्री रविशंकर

 Tahlka News |  2016-03-13 17:20:22.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली, 13 मार्च. श्री श्री रविशंकर ने रविवार को अपने एक बयान से सभी को चौंका दिया। रविशंकर ने कहा कि 'मैं जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के गरीबों के प्रति विचारों से हुत प्रभावित हूं।' उन्होंने ये भी कहा कि जिस तरीके से कन्हैया ने गरीबों और उनकी दिक्कतों के बारे में बताया है, वाकई में काफी अच्छा लगा। रविशंकर ने ये भी कहा कि जेएनयू विवाद को लेकर शुरुआत में जो खबरें मीडिया में आई, वह काफी परेशान कर देने वाली थी। उन खबरों को सुनकर मैं भी चिंतित था, लेकिन जब मैंने कन्हैया का वीडियो देखा तो मैं उसके भाषण को सुनकर काफी प्रभावित हुआ।


रविशंकर ने बताया कि समाज में अच्छे और बुरे दोनों तरह के लोग होते हैं। बुरे लोग समाज को दूषित करने का ही काम करते हैं। ऐसे लोगों से दूरी बना लेनी चाहिए। वहीं, उन्होंने ये भी कहा कि राष्ट्रवाद के नाम पर कुछ लोग भड़काने का काम कर रहे हैं। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है।



कन्‍हैया के विपक्ष में अब तक सामने आए FACTS

1- जेएनयू के रजिस्ट्रार भूपिंदर जुत्शी ने दावा किया है कि छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के खिलाफ विवादास्पद कार्यक्रम की इजाजत रद्द किए जाने पर एतराज जताया था। जुत्शी ने कुलपति एम जगदीश कुमार द्वारा गठित उच्च अधिकार प्राप्त जांच समिति के सामने यह बयान दिया है।


2- दिल्‍ली पुलिस के गवाहों में शामिल JNU के सिक्‍योरिटी ऑफिसर का कहना है कि कन्‍हैया ने विरोध प्रदर्शन का नेतृत्‍व किया था, जबकि 12 अन्‍य सुरक्षाकर्मियों का कहना है कि 15 से 20 छात्रों ने राष्‍ट्र विरोधी नारे लगाए थे और कन्‍हैया कुमार भी वहीं मौजूद था।


3- पुलिस के मुताबिक, चश्‍मदीदों ने कन्‍हैया कुमार को गैरकानूनी विरोध प्रदर्शन में शामिल होते देखा था, जिसमें देशविरोधी नारे लगाए गए थे। 'जी न्‍यूज' पर दिखाए गए प्रदर्शन के 30 मिनट के वीडियो में कन्‍हैया 17:30 मिनट पर दिखाई देता है।


4- कन्‍हैया के खिलाफ दर्ज रिपोर्ट में पांच छात्रों का स्‍टेटमेंट भी है, जिनमें एक बीजेपी के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्‍य हैं। उसने अपने बयान में कहा है, 15 से 20 छात्र देशविरोधी नारे लगा रहे थे और कन्‍हैया भी उस वक्‍त वहां पर मौजूद था।


5- कन्‍हैया कुमार ने जेल से रिहा होने के बाद कई बार उमर खालिद का परोक्ष और प्रत्‍यक्ष तौर पर समर्थन किया है। ऐसे में उसकी मंशा पर भी सवाल उठ रहे हैं, क्‍योंकि उमर खालिद के खिलाफ पुलिस के पास पुख्‍ता सबूत हैं और अभी तक किसी भी एजेंसी ने उसे क्‍लीन चिट नहीं है। ऐसे में कन्‍हैया कुमार को उमर खालिद का समर्थन भारी पड़ सकता है।


क्‍या कहते हैं कन्‍हैया
कन्‍हैया कुमर ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा, 'एक confusion है। पुलिस को लगता है कि हम प्रेजिडेंट हैं कैंपस के तो हमारी अनुमति से ही सब कुछ होता है। इसको एक उदाहरण से स्पष्ट करना चाहता हूँ। मैं कोई permitting authority नहीं हूँ। मेरी परमिशन से कैंपस में चीज़ें नहीं होती हैं और मुझे लगता है कि ये मेरे दायरे में भी नहीं है।'

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top