Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

तंजानियाई लड़की से बदसलूकीः रंगभेद के कारण हमला हुआ

  |  2016-02-04 11:25:16.0

bangalore-04-02-2016-1454555109_storyimage


तहलका न्यूूज ब्यूरो
नई दिल्ली, 4 फरवरी. गृह मंत्रालय ने बेंगलूरू में लोगों की एक भीड़ द्वारा तंजानिया की एक छात्रा को कथित रूप से पीटे जाने और उसके कपड़े फाड़ने की घटना पर चिंता जताते हुए मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और कर्नाटक सरकार से इस मामले पर तत्काल रिपोर्ट मांगी है। वहीं, तंजानिया की लड़की की पिटाई के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।


अंग्रेजी अखबार 'द हिंदू' में छपी खबर के मुताबिक, मामले में तंजानिया मूल के ही एक अन्य छात्र का कहना है रविवार शाम की इस वारदात को याद करते हुए कहा, 'भीड़ बहुत उग्र थी। वह लोग उस असहाय लड़की का 20 मिनट तक पीछा करते रहे। वह दौड़ रही थी और मदद के लिए चीख रही थी। भीड़ में लोगों ने उसे खूब पीटा, उसके कपड़े फाड़ डाले, उसे लगभग नंगा कर दिया। जब मैंने उसे बचाने की कोशि‍श की तो मैं भी भीड़ के निशाने पर आ गया। उन्होंने मुझे भी दौड़ाया और पिटाई की।


सीएम सिद्धरमैया ने कहा कि इस मामले के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच की जा रही है। जो लोग भी इस मामले में दोषी पाए जायेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कर्नाटक सरकार ने इस केस में अब तक हुई प्रगति के बारे में विदेश मंत्रालय को जानकारी दे दी गयी है। कर्नाटक पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने आज घटनास्थल का दौरा किया और केस के मामले में जानकारी हासिल की।

हादसे के दो दिन बाद लीना पुलिस स्टेशन आयी और उसने शिकायत दर्ज करायी। अगर सुडानी नागरिक की कार ये दुर्घटना नहीं हुई होती तो ये सब नहीं होता। तंजानिया की लड़की के साथ जिस तरह से मारपीट की गई वो नस्ली हिंसा नहीं है, वो महज एक दुर्घटना की प्रतिक्रिया थी जिसकी शिकार वो लड़की हुई। बता दें  कि बेंगलुुरु में करीब 12 हजार विदेशी विद्यार्थी पढ़ते हैं जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी है। कर्नाटक सरकार और पुलिस किसी तरह की कोताही नहीं कर रही है। सरकार पूरे मामले की गंभीरता से तहकीकात कर रही है।


तंजानिया के हाईकमिश्नर की मांग
भारत में तंजानिया के हाईकमिश्नर जॉन किजाजी ने अगर पुलिस ने पांच लोगों की गिरफ्तारी की है यो ये अच्छी प्रगति है। उन्होंने कहा कि किसी भी घटना का मुल्यांकन अलग अलग तरीके से हो सकता है और ये सबका अधिकार है। किजाजी ने कहा कि उन्हें लगा कि तंजानियाई लड़की को महज इसलिए निशाना बनाया गया क्योंकि वो अश्वेत थी।


इस बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के सीएम सिद्धरमैया से तत्काल रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिये।


हालांकि भाजपा ने राहुल गांधी के इस कदम पर तंज कसा। संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी हर मुद्दे पर देश को ज्ञान देते हैं। लेकिन वो इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि ये घटना बेहद ही शर्मनाक है। दोषियों के खिलाफ उन्होंने कड़ी कार्रवाई की मांग की । भाजपा की वरिष्ठ नेता नजमा हेपतुल्ला ने कहा कि ये अफसोस की बात है। ऐसे मामलों में सख्त कदम उठाने की जरूरत है। संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि इस तरह की घटनाएं शर्मनाक हैं। समाज को भी अपनी सोच में बदलाव लाने की आवश्यकता है।


क्या है मामला ?


एक सुडानी कार चालक के एक महिला को सड़क पर कुचलने के बाद 200 से 300 लोगों की भीड़ ने तंजानिया की एक 21 वर्षीय लड़की को उसकी कार से खींचकर बुरी तरह पीटा और उसके कपड़े फाड़ दिए और उसकी कार को आग के हवाले कर दिया।


उग्र भीड़ ने उसे बार-बार पीटते हुए उसके कपड़े फाड़कर नग्नावस्था में उसकी परेड करवाई। बुरी तरह से जख्मी लड़की ने जब भीड़ से बचने के लिए वहां से गुजरती बीएमसीटी की एक बस में चढ़ने की कोशिश की तो बस यात्रियों ने भी उसे धकेल कर वापस हिंसक भीड़ के हवाले कर दिया। यह वीभत्स घटना पुलिस मूकदर्शक बनी देखती रही।


बताते चले कि अफ्रीकी देश तंजानिया की पीडि़त लड़की बेंगलुरु के आचार्य कालेज में बीबीए द्वितीय वर्ष की छात्रा है। हादसे के बाद बदकिस्मती से वहां अपने तीन दोस्तों के साथ आइटी-10 कार में पहुंची। बेंगलुरु में ऑल अफ्रीकन स्टूडेंट्स यूनियन के कानूनी सलाहकार बास्को कावीसी के अनुसार बात इतने पर भी नहीं थमी बुरी तरह से जल चुकी कार में अपने जरूरी दस्तावेज, एटीएम कार्ड और नकद गंवा चुकी इस लड़की समेत चार लोग जब अस्पताल पहुंचे तो उन्हें अस्पताल से भी बाहर कर दिया गया।


उनका कहना है कि तंजानिया की लड़की का सुडान के लड़के से या उस घटना से कोई लेना-देना नहीं था। लेकिन इस वारदात के बाद भी पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। संपर्क करने पर इसकी रिपोर्ट तक नहीं लिखी। इस शर्मनाक घटना से नाराज अफ्रीकी समुदाय के लोगों ने न्याय मिलने की मांग की है। अफ्रीकी दूतावास भी ऐसी घटना से स्तब्ध हैं।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top