Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

फेल हुए खट्टर , जा सकती है कुर्सी

 Tahlka News |  2016-02-21 06:35:20.0

khattarगुडगाँव. जाट आन्दोलन से निपटने में कमजोरी हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर पर भारी पड़ सकती है. भाजपा आलाकमान ने हरियाणा में पैदा हुए हालात और जाट आंदोलन को शांत करने की कमान अपने हाथों में ले ली है। जाट आंदोलन के उग्र होने के बाद माना जा रहा है कि खट्टर स्थितियों को संभाल पाने में नाकाम रहे हैं। वे न तो मामले की गंभीरता समझ सके और न ही पार्टी नेताओं के बयानों पर लगाम लगा सके. उनकी ओर से अंतिम दौर में सर्वदलीय बैठक सरीखे कदम उठाने की पहल हुई। जबकि मामला आगे निकल चुका था।

इस मामले को बिगड़ने में भी प्रदेश भाजपा के नेताओं का ही हाँथ रहा. जाट कम्युनिटी की मांगों के बीच कैथल से बीजेपी सांसद राजकुमार सैनी ने बयान दिया, ‘यदि सरकार दबाव में आकर जाटों को रिजर्वेशन देती है तो बीजेपी का कांग्रेस से भी बुरा हाल होगा। रेलवे ट्रैक सड़क जाम करने वाले नेताओं को शर्म आनी चाहिए। प्रदेश सरकार ऐसे लोगों पर मुकदमे दर्ज करे। ताकि उन्हें सबक मिले। जोर दिखाकर सरकार को झुकाया नहीं जा सकता।’

इस बयान से जाट नेता भड़क गए। शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने सैनी के घर पर हमला कर दिया। भाजपा आलाकमान को इस बात की भनक भी लगी है कि जाट नेताओं के खिलाफ जहर उगल रहे सांसद राजकुमार सैनी को परदे के पीछे खट्टर का समर्थन प्राप्त है।

हालांकि प्रदेश भाजपा प्रभारी अनिल जैन ने राज्य सरकार की विफलता को खारिज किया है। जैन ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री लगातार जाट नेताओं से चर्चा कर उनकी एक-एक बात मानते रहे हैं। मगर आंदोलन के एकाएक उग्र हो जाने के वजहों को लेकर जैन भी स्पष्ट नहीं है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top