Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

'मुम्बई हमला मामले में भारत को सहयोग कर रहा अमेरिका'

 Tahlka News |  2016-02-12 13:24:32.0

Flames and smoke gush out of the historic historic Taj Mahal Hotel in Mumbai on November 27, 2008, one of the sites of attacks by alleged militant gunmen. Up to 100 people were killed and around 100 more wounded in coordinated attacks by gunmen in India's commercial capital Mumbai, Indian media reported, with two five-star hotels among the targets of gunmen armed with powerful assault rifles and grenades. AFP PHOTO/Indranil MUKHERJEE

अरुण कुमार  
वाशिंगटन, 12 फरवरी| अमेरिका ने एक बार फिर दोहराया है कि मुम्बई हमले के लिए जिम्मेदार रहे लोगों को न्याय के कटघरे में लाने के लिए वह भारत के साथ लगातार काम करता रहेगा। अमेरिका ने कहा है कि वह इस मामले में भारत और पाकिस्तान के बीच सहयोग को प्रोत्साहित करेगा।


विदेश विभाग के प्रवक्ता मार्क सी. टोनर ने गुरुवार को कहा, "हम इस मामले की जांच में भारत सरकार के साथ कई सालों से मिलकर काम रहे हैं। हम मुम्बई आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार लेगों को न्याय के कटघरे में खड़ा करने के लिए भारत सरकार की हर संभव मदद करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं।"


पत्रकारों ने पाकिस्तान मूल के अमेरिकी नागरिक व लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम कर चुके डेविड कोलमैन हेडली की मुम्बई अदालत में हो रही गवाही के बारे में सवाल किया था। हेडली ने पाकिस्तानी सेना और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई और हमलावरों के आकाओं के बीच के गठजोड़ का खुलासा किया है।


टोनर ने हेडली का उल्लेख करते हुए कहा कि हमले में उसकी भूमिका को लेकर शिकागो में उसे 35 साल की सजा दी गई है और मुम्बई की अदालत में वह वीडियो संपर्क के माध्यम से गवाही दे रहा है।


उन्होंने कहा कि इस हमले के पीड़ितों में न सिर्फ अमेरिकी और भारतीय नागरिक शामिल थे, बल्कि कई देशों के नागरिक इसमें शामिल थे। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि हमले के गुनहगारों को न्याय के कठघरे में खड़ा किया जाए।


जब उनसे यह पूछा गया कि हमले में जिन आतंकवादियों के नाम आए हैं, वे तो उस देश (पाकिस्तान) में आजाद घूम रहे हैं, इस पर टोनर ने कहा कि वे भारत और पाकिस्तान के बीच इस खास मामले में सहयोग को प्रोत्साहित कर रहे हैं। पत्रकारों द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या अमेरिका और भारत मिलकर दक्षिण चीन सागर में संयुक्त रूप से गश्ती करेंगे? टोनर ने कहा कि फिलहाल ऐसी कोई योजना नहीं है।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top