Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपीआईडी को 5 साल में विकसित करें

  |  2015-11-07 15:41:58.0

csलखनऊ, 7 नवम्बर. उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में हस्तशिल्प डिजाइन व अन्य तकनीकी सुविधायें एवं सहायता उपलब्ध कराने तथा क्षेत्र के समग्र विकास हेतु प्रशिक्षित मैनपावर उपलब्ध कराने हेतु उत्तर प्रदेश इन्स्टीट्यूट आफ डिजाइन (यूपीआईडी) को संस्थान के रूप में विकसित किया जाये। उन्होंने कहा कि यूपीआईडी को आगामी 5 वर्ष की अवधि में चरणबद्ध रूप से ऐसे क्राफ्ट और डिजाइन शिक्षण संस्थान के रूप में विकसित किया जाये जो हस्तशिल्प क्षेत्र में न केवल प्रशिक्षित मैनपावर उपलब्ध कराये बल्कि हस्तशिल्प क्षेत्र के समग्र विकास हेतु विभिन्न स्थलों पर कार्यवाही भी सुनिश्चित कराई जाये।


उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान द्वारा प्रारम्भ में कम अवधि के सर्टिफिकेट कोर्स यथाशीघ्र प्रारम्भ कराये जायें। उन्होंने कहा कि इसके उपरान्त 3 वर्षों का क्राफ्ट डिजाइन में डिप्लोमा व 2 वर्षों का क्राफ्ट एन्टरप्रेन्योरशिप में डिप्लोमा कोर्स अवश्य प्रारम्भ कराये जाये। उन्होंने कहा कि इन सर्टिफिकेट तथा डिप्लोमा कोर्सेजों को बोर्ड आफ टेक्निकल एजुकेशन उत्तर प्रदेश से मान्यता प्राप्त करने हेतु आवश्यक कार्यवाही प्राथमिकता से सुनिश्चित कराई जाये।


मुख्य सचिव आज शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में एनआईडी अहमदाबाद द्वारा प्रस्तुत रोडमैप पर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श कर आवश्यक  निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित प्रस्तावों को कार्यरूप देने हेतु एक कोर ग्रुप का गठन किया जाये जिसके निर्देशन में कार्यवाहियां सम्पादित कराई जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि यूपीआईडी द्वारा चलाये जाने वाले कोर्सेजों हेतु नियमानुसार पदों के सृजन की कार्यवाही भी किये जाने हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाये।


प्रस्तुत रोडमैप में बताया गया कि नेशनल काउन्सिल आफ अप्लाइड इकोनामिक रिसर्च द्वारा वर्ष 1995-1996 में किये गये अन्तिम सर्वे के अनुसार उत्तर प्रदेश में कुल 2, 83, 804 हस्तशिल्प इकाईयां तथा 1.17 मिलियन क्राफ्ट पर्सन्स है। उत्तर प्रदेश में हस्तशिल्प की इस समृद्ध परम्परा को डिजाइन व अन्य क्षेत्रों में सहयोग प्रदान करने हेतु वर्ष 1956 में सेन्टर डिजाइन सेन्टर की स्थापना लखनऊ में की गई थी। सेन्ट्रल डिजाइन सेन्टर को विगत वर्ष 2005 में यूपीआईडी (उत्तर प्रदेश इन्स्टीट्यूट आफ डिजाइन) के रूप में परिवर्तित किया गया था।


बैठक में अध्यक्षा शासी परिषद यूपीआईडी श्रीमती जोहरा चटर्जी, प्रमुख सचिव लघु उद्योग रजनीश दुबे, निदेशक लघु उद्योग भी उपस्थित थे।  रोडमैप राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान के प्रमुख डिजाइनर विजय सिंह कटियार द्वारा अपने सहयोगियों के साथ प्रस्तुत किया गया।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top