Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एक्‍शन में CM अखिलेश: सरकार के 8 मंत्री बर्खास्‍त, 9 से छीना गया विभाग

  |  2015-10-29 13:21:41.0

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो

लखनऊ, 29 अक्‍टूबर.  दो दिनों से चल रही अटकलों को विराम देते हुए यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 5 कैबनेट मंत्रियों सहित 8 मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया और 9 अन्य मंत्रियों के विभाग वापस ले लिए. अब 31 अक्टूबर को यूपी का नया मंत्रिमंडल शपथ लेगा. अचानक आये इस फैसले के बाद देर शाम कुछ बर्खास्त मंत्री सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह से मिलने पहुच गए.

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के प्रस्ताव पर कैबिनेट मंत्रियों राजा महेन्द्र अरिदमन सिंह मंत्री स्टाम्प तथा न्यायशुल्क पंजीयन व नागरिक सुरक्षा, अम्बिका चैधरी मंत्री पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं विकलांग कल्याण, शिव कुमार बेरिया मंत्री वस्त्र उद्योग एवं रेशम उद्योग, नारद राय मंत्री खादी एवं ग्रामोद्योग, शिवाकान्त ओझा मंत्री प्राविधिक शिक्षा, और राज्य मंत्री आलोक कुमार शाक्य प्राविधिक शिक्षा, योगेश प्रताप सिंह ‘योगेश भइया’ बेसिक शिक्षा, और भगवत शरण गंगवार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग को मंत्री पद से पदमुक्त कर दिया।up mini



इसके अतिरिक्त राज्यपाल ने मुख्यमंत्री के दूसरे प्रस्ताव पर अहमद हसन मंत्री चिकित्साएवं स्वास्थ्य परिवार कल्याण मातृ एवं शिशु कल्याण, अवधेश प्रसाद मंत्री समाज कल्याण अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण सैनिक कल्याण, पारस नाथ यादव मंत्री उद्यान खाद्य प्रसंस्करण, राम गोविन्द चैधरी मंत्री बेसिक शिक्षा, दुर्गा प्रसाद यादव मंत्री परिवहन, ब्रह्मा शंकर त्रिपाठी मंत्री होमगार्डस् प्रांतीय रक्षक दल, रघुराज प्रताप सिंह राजा भइया मंत्री, खाद्य एवं रसद, इकलाब महमूद मंत्री मत्स्य सार्वजनिक उद्यम, महबूब अली मंत्री माध्यमिक शिक्षा को आवंटित विभाग हटाकर उनके विभागों का कार्य मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अतिरिक्त प्रभाग के रूप में आवंटित कर दिया है। जबकि उक्त मंत्री बिना विभाग के अपने पद पर बने रहेंगे।up min1




दरअसल अखिलेश यादव अपने वर्तमान कार्यकाल के बचे 18 महीनो में सरकार की छवि भी बदलना चाहते हैं और आने वाले चुनावो के मद्देनजर जातीय समीकरण भी साधना चाह रहे हैं . उम्मीद की जा रही है कि नए मंत्रिमंडल में मुस्लिम , महिला , अति पिछड़ा और दलितो का प्रतिनिधित्व दिखाई देगा.

हालाकि आज हुई बर्खास्तगी में उन मंत्रियों का नाम नहीं है जिनकी वजह से सरकार की किरकिरी होती रही है . इनमे गायत्री प्रजापति का नाम सबसे प्रमुख है. भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे गायत्री प्रजापति अखिलेश सरकार के सबसे विवादस्पद मंत्री रहे हैं . इनसे अलावा पंडित सिंह का नाम भी न होना आश्चर्यजनक है. अन्य विवादस्पद मंत्रियों में महबूब अली, पारसनाथ यादव, दुर्गा यादव, ब्रह्मा शंकर त्रिपाठी और रघुराज प्रताप सिंह का भी सिर्फ विभाग लिया गया है जबकि उम्मीद थी कि इन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जायेगा.








  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top