Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

स्मृति ईरानी से यूपी पुलिस करेगी पूछताछ!

 Tahlka News |  2016-03-08 06:13:36.0

download (1)


तहलका न्यूज ब्यरो

नई दिल्ली, 8 मार्च. केंद्रीय मानव संशाधन मंत्री स्मृति ईरानी से यूपी के थाना माठ की पुलिस सड़क हादसे में मारे गये रमेश नागर केस में पूछताछ कर सकती है। पुलिस ने हादसे का शिकार हुए परिवार की और से इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कर सभी गाड़ियों को अपने कब्जे में ले लिया है। जानकारी के अनुसार, सभी गाड़ियों को कब्जे में लेकर मृतक के बेटे अभिषेक नागर की रिपोर्ट पर मथुरा के थाना माठ की पुलिस पूछताछ कर रही है।


बता दें कि डॉ.नागर के बेटेे अभिषेक ने मांट थाना में एफआईआर दर्ज कराई है। इसके अनुसार स्मृति ईरानी के काफिले की गाड़ी से एक्सीडेंट हुआ था, लेकिन मंत्री ने कोई मदद नहीं की और गाड़ी में बैठकर निकल गईं। ईरानी पर पीडि़त परिवार के आरोपों के बाद मामले ने राजनीतिक रंग लेना शुरू कर दिया है। कांग्रेस और एनएसयूआई ने आरोप लगाया है कि स्मृति ईरानी की गाड़ी ने आगरा निवासी रमेश नागर को कुचल दिया। घटना के विरोध में रविवार को मथुरा लोकसभा क्षेत्र के युवा कांग्रेस और एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। रमेश नागर के परिजनों के साथ मथुरा पोस्टमार्टम हाउस पर जाम लगाया और स्मृति के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज करने की मांग की।


इस बाबत माठ थाने के एसओ दुर्गेश कुमार ने बताया कि घटना की पुष्टि के लिए उन्होंने सभी गाड़ियों को अपने कब्जे में ले लिया है। उनका मानना है कि इन सभी गाड़ियों की आपस में जब टक्कर हुई तो इनके मालिक वहां मौजूद थे। इसलिए सभी के बयान लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि चूँकि यह लोग घटना के चश्मदीद गवाह हैं, इसलिए इनके बयान के बाद ही कोई कार्रवाई किया जाना संभव होगा।


एसओ माठ ने कहा कि जरुरत पड़ेगी तो केंद्रीय मानव संशाधन मंत्री स्मृति ईरानी के भी बयान इस मामले में लिए जायेंगे। बता दें कि मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी की कार का शनिवार रात युमना एक्सप्रेस वे पर एक्सीडेंट हो गया था। हादसे में एक बाइक सवार की मौत हो गई, जबकि ईरानी को थोड़ी चोट आई थीं। स्मृति ईरानी वृंदावन में हुए भाजयुमो के राष्ट्रीय अधिवेशन में शामिल होकर वापस दिल्ली लौट रही थीं। हादसा, रात 10.30 बजे के करीब यमुना एक्सप्रेस-वे पर मथुरा के नजदीक वृंदावन में हुआ था।

वहीं, पीडि़त की घायल बेटी संदिली नागर ने भी स्मृति ईरानी पर संवेदनहीनता का आरोप लगाया है। संदिली नागर ने कहा, ”मैंने हाथ जोड़कर स्मृति ईरानी से मदद मांगी, लेकिन वह मेरे पापा को सड़क पर तड़पते हुए छोड़ गाड़ी में बैठकर भाग निकलीं। यदि पापा को समय पर हॉस्पिटल पहुंचाया जाता तो वह जिंदा होते। दो घंटे बाद दिल्ली के एक परिवार ने एंबुलेंस बुलाई।”


बताते चले कि शनिवार की रात एचआरडी मंत्री स्मृति ईरानी वृंदावन में भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यक्रम में शामिल होकर लौट रही थीं। मथुरा के मांट पुलिस थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक घटना के बाद ड्राइवर फरार हो गया। एफआईआर के मुताबिक, मंत्री के काफिले में शामिल तेज गति से चल रही डीएल 3सी बीए 5315 नंबर की कार ने मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी थी, जिसमें रमेश और दो बच्चे सवार थे। तीनों एक शादी में जा रहे थे। आरोप है कि नागर के आठ वर्षीय भतीजे पंकज को मथुरा के जिला अस्पताल में प्राथमिक चिकित्सा भी नहीं दी गई।


हालांकि, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) ने सोमवार को उन खबरों को बकवास करार दिया जिनमें कहा गया है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के काफिले की एक कार यमुना एक्सप्रेस पर हुई दुर्घटना में शामिल थी। मंत्रालय ने कहा कि उस वाहन का उनके काफिले से कोई लेना-देना नहीं था।

मंत्रालय के एक स्पष्टीकरण में कहा गया है, “मीडिया के एक वर्ग में यमुना एक्सप्रेसवे पर पांच मार्च को हुई दुर्घटना के बारे में एक खबर चलाई जा रही है। उसमें कहा जा रहा है कि डीएल-3सी-बीए-5315 नंबर की एक होंडा सिटी कार ने कथित रूप से एक बाइक सवार को टक्कर मार दी थी। यह स्पष्ट किया जाता है कि उस वाहन का मंत्री की गाड़ियों के काफिले से कोई लेना-देना नहीं है।”


बयान में आगे कहा गया है, “केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने मथुरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को तत्काल एक एंबुलेंस का इंतजाम करने का निर्देश दिया था, ताकि घायल को जल्द से जल्द इलाज मुहैया कराया जा सके। ”


दुर्घटना के बाद ईरानी ने कई ट्वीट कर स्पष्ट किया था कि वह बिल्कुल ठीक हैं। उन्होंने एक ट्वीट में कहा था कि उस दुर्घटना की वजह से कई वाहन टकरा गए थे। दुर्भाग्य से मेरे आगे चल रही पुलिस की गाड़ी और मेरी कार भी टकरा गई थी।



  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top