Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

17 दिन के स्टडी टूर पर 3 देशो की यात्रा करेंगे 17 विधायक, सवाल उठने शुरू

 Tahlka News |  2016-03-25 12:46:01.0

तहलका न्यूज़ ब्यूरो 

vidhan sabha 1लखनऊः नयी विधान सभा के आने में जब एक साल का वक्त बचा है तो यूपी के माननीय विधायक स्टडी टूर पर निकलने की तैयारी में हैं. 3 देशों की यात्रा सीपीए (कॉमनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन) के नाम पर की जा रही है मगर यह सवाल भी खड़ा हो रहा है कि वर्तमान विधान सभा के आखिरी साल में किया गया यह स्टडी टूर अगली विधान सभा के लिए कितना फायदेमंद होगा.

15 सत्ता पक्ष के और दो अन्य दलों के विधायक यानी कुल 17 माननीय विधायक 17 दिन तक स्टडी टूर पर रहेगे और इस बीच ये दल ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और जापान की यात्रा करेगा। लौटने के दौरान ये दल दुबई में भी समय बिताएगा. इस दल में सरकार के 3 कैबिनेट और 1 राज्य मंत्री भी शामिल हैं.


विधानसभा के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस यात्रा पर यूपी सरकार लगभग एक करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च कर रही है। वैसे इस दौरे को स्टडी टूर का नाम दिया गया है, जिसमें ये नेता विदेश स्थित राजनीतिक संस्थानों का दौरा करेंगे।

हालांकि सीपीए की वेबसाइट के मुताबिक इस बीच उनका कोई अधिकृत कार्यक्रम नहीं है। मिली जानकारी के मुताबिक, विधायक शुक्रवार की रात 1:25 बजे नई दिल्ली से जापान के लिए रवाना होंगे। यहां यह भी ध्यान देने की बात है कि ये सब भले ही सीपीए अध्ययन के नाम पर जापान जा रहे हों पर जापान सीपीए का सदस्य ही नहीं है।

दिल्ली से जापान के लिए रवाना होगा और वहां चार दिन के भ्रमण (स्टडी) के बाद आस्ट्रेलिया की राजधानी कैनबरा में अध्ययन के लिए पहुंचेगा। वहां की स्टडी पूरी होने के बाद न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च पहुंचेगा और फिर वहां के दूसरे शहर आकलैंड व क्वींसटाउन में अध्ययन करेगा। लौटते हुए दल एक  बार फिर जापान जाएगा और फिर दुबई होते हुए भारत लौटेगा। विधायक दल कुल 17 दिन तक स्टडी करेगा।

हालाकि यह दल शुक्रवार की रात को ही भ्रमण पर निकलेगा है मगर इस दौरे को अति गोपनीय रखा जाना भी पूरे मामले को सवालों की जद में ला रहा है. विधायकों के इस विदेश यात्रा की सरकार या फिर विधानसभा की तरफ से कोई अधिकृत जानकारी नहीं दी गई है।

पहले भी विवादों में रही है विधायकों की विदेश यात्रा

यूपी के माननीयों पर विदेशी दौरे को लेकर पहले भी सवालों के घेरे में रहे हैं. इस तरह के अध्ययन दौरों की कोई न तो तिपोर्ट ही सार्वजनिक होती है और न ही इस दौरों का कोई ठोस लाभ भी अभी तक मिलता दिखाई देता है. इन्हीं आरोपों-प्रत्यारोपों के बीच ये अब होली खेलने के बाद एक बार फिर टैक्स पेयर्स के पैसों पर विदेश दौरे पर जा रहे हैं।

इसके पहले भी यूपी के विधायकों की विदेश यात्रा विवादों में रही है। जनवरी 2014 में भी इसी तरह कैबिनेट मंत्री आजम खां की अगुवाई में 17 सदस्यों का एक दल विदेश यात्रा पर गया था। स्टडी टूर के नाम पर इस दल ने 20 दिनों में पांच देशों की यात्रा की थी। जिस पर सरकारी खजाने के करोड़ों रुपए खर्च हुए थे। इसको लेकर विपक्ष ने काफी हो-हल्ला मचाया था। पर इसकी भी कोई जानकारी नहीं दी गई।

ये हैं सदस्य
जापान, आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के दौरे पर जा रहा यह स्टडी दल विधानसभाध्यक्ष माता प्रसाद की अगुवाई में जा रहा है। स्टडी टूर पर जा रहे विधायकों में दो विपक्ष के नेता हैं। इनमें विपक्षी दल कांग्रेस के प्रदीप माथुर व रालोद के दलवीर सिंह शामिल हैं। इसके अलावा स्पीकर माता प्रसाद पांडे की अगुवाई में संसदीय कार्यमंत्री आजम खां, स्टाम्प व पंजीयन मंत्री रघुराज प्रताप सिंह, पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह, आशा किशोर, गजाला लारी, इरफान सोलंकी, योगेश प्रताप सिंह, मोहम्मद रेहाम नईम, भगवत शरण गंगवार, अम्बिका चौधरी, संग्राम सिंह यादव, राज्य मंत्री अभिषेक मिश्रा, अरूणा कुमारी कोरी और अनूप गुप्ता विदेश दौरे पर जा रहे हैं। विधानसभा के प्रमुख सचिव प्रदीप कुमार दुबे भी विधायकों के साथ दौरे पर मौजूद रहेंगे।
विधानसभा के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस यात्रा पर यूपी सरकार लगभग एक करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च कर रही है। वैसे इस दौरे को स्टडी टूर का नाम दिया गया है, जिसमें ये नेता विदेश स्थित राजनीतिक संस्थानों का दौरा करेंगे।

स्टडी टूर पर जाते तो हैं पर नहीं देते कोई जानकारी

यूपी में साल दर साल माननीय स्टडी टूर पर विदेश यात्रा का मजा उठाते हैं। पर जनता के पैसे से किए गए इस टूर से उन्होंने क्या सीखा। यह बताने से परहेज करते रहे हैं। विदेश में विधायकों ने क्या अध्ययन किया। इसका ब्यौरा न ही सदन में पेश किया जाता है और न ही आम जनता को बताया जाता है कि उनके पैसे पर विदेश यात्रा करने गए माननीय लोकतंत्र का कौन सा पाठ पढ़ कर आए हैं।

सीपीए का आगामी अधिकृत कार्यक्रम
-पोस्ट इलेक्शन सेमिनार फार द पर्लियामेंट आफ गुयाना, 31 मार्च से एक अप्रैल 2016, जार्जटाउन, गुयाना।
-रेगुलेटिंग आफ इंफारमेशन एंड कम्यूनिकेशन टेक्नोलाॅजी, 11 से 15 अप्रैल, लंदन, यूके।
-इंटरनेशनल प्रोफेशनल डेवलपमेंट प्रोग्राम फार पर्लियामेंट्री स्टाफ, 16 से 20 मई 2016, कनाडा।

-13वीं सीपीए कनाडा पर्लियामेंट्री सेमिनार, 29 मई से 30 जून 2016, कनाडा।
-27वीं सीपीए कामनवेल्थ पर्लियामेंट्री सेमिनार, 5 से 11 जून, आस्ट्रेलिया।
-62वीं कामनवेल्थ पर्लियामेंट्री कांफ्रेंस, 1 से 10 सितंबर 2016, बांग्लादेश।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top