Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मालेगांव ब्लास्टः सभी 9 मुस्लिम आरोपी हुए बरी, 37 की हुई थी मौत

 Tahlka News |  2016-04-25 10:40:59.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
मुंबई, 25 अप्रैल. मुंबई की एक अदालत ने 2006 में हुए मालेगांव धमाकों के मामले में 9 मुस्लिम आरोपियों को बरी कर दिया है। 8 सितंबर 2006 को मालेगांव में एक मस्जिद के पास हुए धमाकों में 37 लोगों की मौत हुई थी। धमाके में करीब 115 लोग जख्मी हुए थे।



13 लोग हुए थे गिरफ्तार
इस मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार सभी लोगों को सिमी का कार्यकर्ता बताया गया था। मालेगांव में कुल तीन धमाके हुए थे। 2008 में हुए धमाके के मामले में एटीएस की जांच में अभिनव भारत संस्था का नाम सामने आया था। इस मामले में स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित सहित साध्वी प्रज्ञा सिंह को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले की जांच अभी भी जारी है।
जब NIA ने लिया केस का चार्ज

एटीएस की जांच के बाद यह केस सीबीआई को दिया गया था और सीबीआई ने भी एटीएस की जांच को सही ठहराया था. इस केस में नया मोड़ तब आया, जब साल 2011 में केस का चार्ज एनआईए ने लिया। जांच के बाद दक्षिणपंथी हिंदू संगठन अभिनव भारत के सदस्यों को आरोपी बताया गया। गौरतलब है कि इसी संगठन के सदस्यों को 2008 में हुए दूसरे मालेगांव ब्लास्ट का दोषी पाया गया था।

a2

बयान से पलटे असीमानंद

समझौता ट्रेन ब्लास्ट केस में आरोपी स्वामी असीमानंद के मुताबिक सुनील जोशी नाम के शख्स ने यह बात बताई थी कि पहले और दूसरे मालेगांव ब्लास्ट में एक ही संगठन का हाथ है। सुनील जोशी की हत्या के बाद असीमानंद ने अपना बयान वापस ले लिया था।

फैसले पर NIA की आपत्ति

2014 में NIA ने दावा किया कि ATS और CBI ने जिन लोगों को आरोपी बताया, उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है। हालांकि हाल में NIA ने आरोपियों को बरी करने की सुनवाई का विरोध किया था। NIA के वकील प्रकाश शेट्टी ने बताया कि नौ मुस्लिम युवकों के खिलाफ भले ही सबूत ना मिले हों, लेकिन तकनीकी स्तर पर उन्हें अभी बरी करना सही नहीं है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top