Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

आज का पंचाग - 17 जून 2016 दिन शुक्रवार

 Ankur Tiwari |  2016-06-17 08:25:09.0

panchang

आज का पंचाग ?    17 जून 2016 दिन शुक्रवार
?आज का दिन मंगलमय हो?

? शुक्रवार के दिन तेल मर्दन (मालिश) करने से विघ्न बाधाएं आती हैं। (मुहूर्त गणपति)

? शुक्रवार के दिन क्षौरकर्म (बाल - दाढी और नख काटने या कटवाने) से लाभ और यश की प्राप्ति होती है।(महाभारत अनुशासन पर्व )

? विक्रम संवत् - 2073
? संवत्सर - साधारण
? शक - 1938
? अयन - उत्तरायण
? गोल - उत्तर
? ऋतु - ग्रीष्म
? मास - ज्येष्ठ
? पक्ष - शुक्ल
? तिथि - द्वादशी दिन 11:37 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी।
⭐नक्षत्र- विशाखा रात्रि 01:58 बजे तक तदुपरान्त विशाखा।
? योग- शिव प्रातः 08:48 बजे तक तदुपरांत सिद्ध।
? दिशाशूल - शुक्रवार को पश्चिम दिशा और नैऋत्यकोण का दिशाशूल होता है यदि यात्रा अत्यन्त आवश्यक हो तो जौ का सेवनकर प्रस्थान    करें।

⚡ राहुकाल (अशुभ) - दिन 10:30 बजे से 12:00 बजे तक।
?सूर्योदय - प्रातः 05:14।
?सूर्यास्त - सायं 06:58।
? विशेष- द्वादशी को पूतिका  (शरपुतिया/शत पूतिका) खाने से संताननाश होता है।
(ब्रह्माण्ड पुराण ब्रह्मा खण्ड) ?? पर्व त्यौहार- एकादशी व्रत की पारणा दोपहर 11:37 से पूर्व, चम्पक द्वादशी, श्रीराम द्वादशी, श्रीत्रिविक्रम पूजा, कूर्म द्वादशी, गोमतेश्वर जयन्ती।
मुहूर्त
?विशेष - शुक्रास्त 4 जुलाई तक।  ज्येष्ठ मास में आटे की ब्रह्म की प्रतिमा बनाकर सविधि वस्त्रादि से पूजन करना चाहिये।।  ज्येष्ठ मास में बैगन नहीं खाना चाहिये।
? एकादशी व्रत पारणा विधि- द्वादशी को पूजास्थल पर बैठकर 7 भुने हुए चने लेकर उसके 14 टुकड़े कर लें, चने के प्रत्येक टुकड़े को एक -एक करके अपने पीछे एक एक करके फेंकना चाहिए , और यह भावना करनी चाहिए कि "मेरे 7 जन्मों के शारीरिक, मानसिक और वाचिक पाप नष्ट हुए" । यह भावना कर सात अंजली जल पीना चाहिए और 7 चने के दाने खाकर एकादशी व्रत की पारणा करनी चाहिए।
?आज द्वादशी तिथि दिन में 11:37 बजे तक रहेगी , इस काल में एकादशी व्रत की पारणा कर लेना चाहिए।

?आज का दिन शुभ हो?
डा0 बिपिन पाण्डेय ,
विश्व पुरोहित परिषद, लखनऊ 08756444444

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top