Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

समाजवाद के पैरोकार व साम्प्रदायिकता विरोधी थे चन्द्रभानु गुप्त : शिवपाल

 Sabahat Vijeta |  2016-07-14 15:30:46.0

shivpal-chandrbhanu


लखनऊ. स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाजवादी नेता व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चन्द्रभानु गुप्त की जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित सभा को सम्बोधित करते हुए सपा प्रभारी व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि चन्द्रभानु गुप्त देशभक्त और समाजसेवी थे। वे समाजवाद के प्रबल पैरोकार और साम्प्रदायिकता के धुर विरोधी थे। उन्होंने चन्द्रशेखर आजाद, अशफाक उल्ला खां व पण्ड़ित राम प्रसाद बिस्मिल का मुकदमा लड़ कर ब्रितानिया हुकूमत को सीधी चुनौती दी थी।


उन्होंने कहा कि आजादी की जंग के दौरान उनका अधिकांश समय जेल में गुजरा। उन्होंने 1934 में कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी के गठन महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। आचार्य नरेन्द्र देव एवं डा. लोहिया ने कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई का महासचिव बनाया था। समाजवादी सोच का होने के नाते ही उनका झुकाव नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की ओर था। मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने कई महत्वपूर्ण सामाजिक संस्थानों का गठन किया।


श्री यादव ने कहा कि समाजवादी विचारधारा के प्रचार प्रसार के लिए उन्होंने “संघर्ष” शीर्षक से साप्ताहिक पत्रिका का प्रकाशन किया। वे लोहिया की कई अवधारणाओं से सहमत थे। श्री यादव ने जोर देकर कहा कि हमें चन्द्रभानु गुप्त जैसे महान पूर्वजों की महान विरासत को सम्भाल कर रखना है। नई पीढी चन्द्रभानु गुप्त को पढे और प्रेरणा लेकर देश तथा समाज की सेवा करे।


शिवपाल सिंह ने रघुनन्दन सिंह “काका” द्वारा लिखित और यश भारती मधुकर त्रिवेदी द्वारा सम्पादित पुस्तक “महा-कर्मयोगी चन्द्रभानु गुप्त” का भी विमोचन किया। इस अवसर पर चन्द्रभानु गुप्त जनसेवा संस्थान द्वारा साम्प्रदायिकता से सतत संघर्ष करने और लोकतांत्रिक समाजवाद के सशक्तिकरण के लिए शिवपाल सिंह यादव को चन्द्रभानु गुप्त स्मृति सम्मान-16 से विभूषित किया गया।


वरिष्ठ सपा नेता भगवती सिंह, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अशोक बाजपेयी, महिला आयोग की अध्यक्ष जरीना उस्मानी, उच्च शिक्षा मंत्री शिव प्रसाद शुक्ला, समाजवादी चिन्तक दीपक मिश्र, राज्य मंत्री अभिषेक मिश्र समेत कई वक्ताओं ने अपने विचार रखे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top