Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुलायम ने अखिलेश और प्रो. राम गोपाल यादव को सपा से 6 साल के लिए निकाला

 Sabahat Vijeta |  2016-12-30 13:27:10.0

shivpal-mulayam-akhilesh-1-620x400

तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. राम गोपाल यादव को आज अनुशासनहीनता के आरोप में 6 साल के लिए समाजवादी पार्टी से निष्कासित कर दिया है.


प्रो. राम गोपाल यादव द्वारा पार्टी के राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाने की घोषणा के कुछ ही देर बाद मुलायम सिंह यादव ने संवावददाता सम्मेलन बुलाकर प्रो. राम गोपाल यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी से छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया. मुलायम सिंह ने कहा कि वह राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाकर तय करेंगे कि मुख्यमंत्री किसे बनाया जाये.


समाजवादी पार्टी में टिकट बंटवारे को लेकर शुरू हुआ घमासान आज फैसलाकुन मोड़ पर पहुँच गया. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सपा सुप्रीमो को 403 प्रत्याशियों की सूची सौंपी थी लेकिन मुलायम ने जो 325 प्रत्याशियों की सूची जारी की उसमें अखिलेश यादव के तमाम करीबियों को टिकट नहीं मिला था. करीबियों को टिकट न मिलने से नाराज़ अखिलेश यादव ने कल 235 प्रत्याशियों की सूची जारी करते हुए अलग चुनाव लड़ने का एलान कर दिया.


आज प्रो. राम गोपाल यादव ने राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाकर आगे की बात तय करने का फैसला किया. इसी के बाद मुलायम सिंह यादव ने पार्टी को रिश्तों से बड़ा बताते हुए राम गोपाल और अखिलेश को पार्टी से निकालने की घोषणा कर दी. मुलायम सिंह की प्रेस कांफ्रेस के बाद अखिलेश यादव ने भी अपने सरकारी आवास पर प्रेस कांफ्रेंस बुलाई है.


प्रो. राम गोपाल ने क्या कहा :-


ramgopal_yadav


अपने निष्कासन के बाद प्रोफ़ेसर रामगोपाल यादव ने कहा कि निष्कासन पूर्णतया असंवैधानिक है और में अभी तक अपने को राष्ट्रीय महासचिव मानता हूँ. उनका कहना था कि यह कार्रवाई गलत हुई है नोटिस देने के आधे घंटे के अंदर निकाल दिया जाना एकदम असंवैधानिक है. रामगोपाल ने कहा कि सारा काम असंवैधानिक हो रहां है आपातकालीन बैठक कभी भी बुलाई जा सकती है. रामगोपाल ने मुलायम पर टिप्पड़ी करते हुए कहा कि उनको को पार्टी का संविधान मालूम नहीं है पार्टी सिर्फ यूपी में है जहाँ की डिमांड पर बैठक बुलाई गई.


टिकट बटवारे पर बोलते हुए उन्होंने आगे कहा कि जो ज़मानत नहीं बचाने वालों को टिकट दिया व जिसकी शिकायत नहीं उसका भी टिकट काटा गया. इटावा, मैनपुरी और औरैया में भी अन्याय हुआ. चुनाव में मालूम पड़ेगा कौन दूसरे लोगों में माना जाता है. जब-जब यादव जाति के अलावा दूसरी जातियों में जाना होता है तो मैं सामने आता हूँ. कहा मैं सब से कम लखनऊ आता हूँ कभी भी प्रशासनिक मामलों में सिफारिश नहीं करता सभी अफसरों से रिश्ते रहे सरकार किसी की हो काम होता है सीएम को कोई राय नहीं दी है कहा बसपा भाजपा या कोई सरकार हो मेरा काम नहीं रुकता. कहा पार्टी का अध्यक्ष ही अगर संविधान के खिलाफ काम करे तो कोई भी बुला सकता है अधिवेशन, निष्कासन गलत तथ्यों पर किया गया.


अपनी आगे की रणनीति के सवाल के जवाब में रामगोपाल ने कहा कि एक तारीख के बाद अगली रणनीति का खुलासा करूँगा. पार्टी कौन बर्बाद कर रहा है सब जानते हैं. अकेले प्रत्याशियों के नाम तय कर पार्टी संविधान के खिलाफ फैसला लिया गया.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top