Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

'मुलायम सिंह यादव को CM अखिलेश की लोकप्रियता से जलन हो रही है': रामगोपाल यादव

 Abhishek Tripathi |  2016-10-25 05:29:47.0

mulayam_akhilesh_shivpalतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. बीते दिन समाजवादी पार्टी (सपा) के कार्यालय में सीएम अखिलेश यादव और कद्दावर नेता शिवपाल यादव के बीच नोंक-झोंक होने के बाद समाजवादी महाभारत में रार और बढ़ गई है। वहीं, मंगलवार की सुबह मीडिया से बात कर शिवपाल ने कहा कि पार्टी और परिवार में सबकुछ ठीक है। जो नेताजी कहेंगे, उसका पालन किया जाएगा। इसी बीच 6 साल के लिए पार्टी से निकाले जा चुके प्रो. रामगोपाल यादव ने कहा 'मुलायम सिंह यादव को अखिलेश की लोकप्रियता से जलन हो रही है। हर बाप चाहता है कि उसका बेटा आगे बढ़े, लेकिन यहां ऐसा नहीं हो रहा।'


पार्टी में बने रहेंगे अखिलेश
सोमवार को हुई बैठक में सबसे पहले मुख्यमंत्री ने अपनी बात रखी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा, 'मेरे पिता मेरे लिए गुरु हैं। नेताजी ने मुझे अन्याय से लड़ना सिखाया। मैं अलग पार्टी क्यों बनाऊंगा। कई लोग गलतफहमी पैदा कर रहे हैं।' अखिलेश बोलते-बोलते रो पड़े। उन्होंने कहा कि मैं नेताजी के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री बना। बैठक के बाद मुलायम सिंह ने स्पष्ट कर दिया कि अखिलेश को पार्टी से नहीं निकाला जाएगा।


चाचा-भतीजे में नोंक-झोंक
बैठक के दौरान मुलायम सिंह ने अखिलेश से कहा कि शिवपाल तुम्हारे चाचा हैं, गले लगो। बाद में दोनों ने एक-दूसरे को गले लगाया। गले मिलने के बाद शिवपाल और अखिलेश के बीच हाथापाई की नौबत आ गई। चश्मदीद के अनुसार, शिवपाल ने अखिलेश से माइक छीन लिया। शिवपाल ने अखिलेश से कहा कि क्यों झूठ बोलते हो? दोनों के बीच तीखी बहस हुई। सुरक्षाकर्मियों ने दोनों को अलग किया।


सीएम अखिलेश पर शिवपाल के गंभीर आरोप
बैठक में अखिलेश पर आरोप लगाते हुए शिवपाल ने कहा कि अखिलेश अलग पार्टी बनाना चाहते थे। ये बात मैं अपने बेटे की कसम खाकर कहता हूं। मैं गंगा जल हाथ में लेने को तैयार हूं। अखिलेश ने दूसरी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने को कहा। पार्टी में रामगोपाल यादव की दलाली नहीं चलेगी। अमर सिंह का पक्ष लेते हुए शिवपाल ने कहा कि 2003 में अमर सिंह की मदद से सरकार बनी थी। सपा में वहीं लोग रहेंगे, जो ईमानदार हैं। मुख्तार अंसारी का नाम लेकर मुझे बदनाम किया गया। शिवपाल ने कहा कि यूपी का नेतृत्व नेताजी संभालें। मुझे पार्टी चलाने की छूट मिले।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top