Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गुस्से पर पायें काबू, करें वैदिक मन्त्रों का जाप

 Anurag Tiwari |  2016-07-10 08:57:49.0

anger management, vedic mantra

तहलका न्यूज डेस्क

क्या आप बात बात पर चिड़चिड़ेपन और झुन्झुलाहट के शिकार हो जाते हैं? क्या आप पल भर में अपना आपा खो देने के चलते अपने कलीग्स के बीच अनपोपुलर हो रहे हैं? अगर आपको लगता है कि आपकी इस समस्या से आपको कोई दवा छुटकारा दिला सकती है तो आप गलत सोच रहे हैं. ऐसी समस्यायों का समाधान सिर्फ और इरफ मेडीटेशन और वैदिक मंत्रोच्चार है, जो अप्पके अंदर की पॉजिटिव एनर्जी को एक्टिवेट करता है. तो पढ़िए इन वैदिक मन्त्रों को और शामिल कीजिए इन्हें अपने डेली रूटीन में औरअपनी लाइफ पर पड़ने वाले पॉजिटिव चेंज को एन्जॉय करिए.

ॐ गतक्रोधाय नम:


इस मंत्र की 5 मालाओं का जाप करें, ध्यान रखें कि एक माला में मंत्र का जाप 108 बार होता है. इस मन्त्र के उच्चारण से न केवल आपके ब्रेन की नेर्वेस पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ता है बल्कि वे आपके कण्ट्रोल में आती है. इन्हें कप्न्त्रोल लार आप अपने चिड़चिड़ेपन को काबू में कर उसे ख़ुशी में बदल सकते हैं.
झुंझलाहट और चिड़चिड़ेपन से छुटकारा दिलाये यह मंत्र

ज्यादा गुसा करने के चलते जाने-अनजाने छोटी-छोटी बातों पर भी झुंझलाहट दिखने लगती है। इसका इलाज भी हमारे प्राचीन और धार्मिक पुस्तकों में दिया हुआ है। महर्षि वेदव्‍यास रचित महान ग्रंथ महाभारत में जिक्र है कि कलिपुरुष (कलियुग) द्वारा राजा नल को वरदान देते हुए जिस मानता का जाप किया, अगर उसे रोजाना 108 बार जाप करें तो झुंझलाहट और चिड़चिड़ेपन से छुटकारा मिलता है।

कर्कोटस्य नागस्य दमयन्त्या नलस्य च। ऋतुपर्णस्य राजर्षे: कीर्तनं कलिनाशनम्।।



गुस्से पर काबू पाने का भगवान विष्णु का मंत्र

ॐ शांताकाराय नम:



वैदिक शांति मंत्र

इस मन्त्र का हर दिन 21 बार जाप करने से स्थित चित्त होता है और गुस्से में काबू पाने में मदद मिलती है. बस इतना ध्यान रखने कि मन्त्रों का उच्चारण शुद्ध होना चाहिए

ॐ ॐ पूर्णमद: पूर्णमिदं: पूर्णात्‍पूर्णमुदच्‍यते, पूर्णस्‍य पूर्णमादाय पुर्णमेवावशिष्‍यते, ॐ शान्‍ति: शान्‍ति: शान्‍ति:


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top