Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

20 मार्च को होगा रामपुर बैराज का शिलान्यास

 Sabahat Vijeta |  2016-03-19 14:19:42.0

azam-shivpalलखनऊ, 19 मार्च. कल फाल्गुन शुक्ल पक्ष द्वादशी, विक्रम सम्वत् 2072 रविवार  20मार्च को आजम खाँ  मंत्री संसदीय कार्य, मुस्लिम वक्फ, नगर विकास, जल सम्पूर्ति, नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन, शहरी समग्र विकास, अल्संख्यक कल्याण एवं हज के कर कमलों द्वारा और शिवपाल सिंह यादव, मंत्री, लोक निर्माण विभाग, सिंचाई, बाढ़ नियन्त्रण, सहकारिता, भूमि विकास एवं जल संसाधन तथा परती भूमि विकास, राजस्व, अभाव, सहायता एवं पुनर्वास तथा लोक सेवा प्रबन्धन विभाग, उत्तर प्रदेश की अध्यक्षता में शिलान्यास किया जाएगा।


श्री यादव ने कहा कि जनपद रामपुर में वर्ष 1885 (स्टेट पीरियड) में कोसी नदी पर लालपुर ग्राम के निकट लालपुर वियर का निर्माण किया गया था। उन्होंने कहा कि लालपुर वियर के अपस्ट्रीम में कोसी नदी के बायें तट पर निर्मित हैड रेगुलेटर के माध्यम से कोसी नहर प्रणाली हेतु जल आपूर्ति होती है। कोसी नहर प्रणाली की वर्तमान शीर्ष क्षमता 400 क्यूसैक्स है। श्री यादव ने कहा कि लालपुर वियर अत्यधिक क्षतिग्रस्त स्थिति में होने के फलस्वरूप कोसी नहर के हैड रेगुलेटर की जल ग्रहण क्षमता भी प्रभावित है। कृषकों को सिंचाई हेतु समुचित एवं पर्याप्त मात्रा में जल उपलब्ध कराने के लिए लालपुर वियर के डाउनस्ट्रीम में बैराज का निर्माण किया जाना आवश्यक है।


सिंचाई मंत्री ने कहा कि रामपुर बैराज निर्माण हेतु मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 19 मार्च को जनपद रामपुर में ‘‘मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय की ओर कोसी नदी पर सर्वेक्षण के उपरान्त वियर बैराज की स्थापना‘‘ करने की घोषणा की गई थी जिससे कोसी नहर प्रणाली की शीर्ष क्षमता 400 क्यूसैक्स से बढाकर 600 क्यूसैक्स हो जायेगी। श्री यादव ने कहा कि परियोजनान्तर्गत मुख्य नहर 30.57 किलोमीटर एवं वितरण प्रणाली की नहरों में 167.06 किलोमीटर लम्बाई में पुनर्स्थापना का कार्य कराया जायेगा। रामपुर बैराज के निर्माण से जनपद रामपुर में वार्षिक सींच 34155 एकड से बढकर 53929 एकड हो जायेगी। श्री यादव ने कहा कि प्रस्तावित स्थल पर बैराज की लम्बाई 352.00 मीटर तथा वाटर वे 306.00 मीटर है। बैराज में 18 मीटर लम्बाई के 4 नग अंडरस्लूस गेट एंव 13 नग अन्य गेट होंगे।


श्री यादव ने कहा कि बैराज का परिकल्पित निस्सरण 4517 क्सूमैक्स( 159360 क्यूसैक्स) है। परियेाजना की कुल लागत रुपये 21635.90 लाख आगणित है। परियोजनान्तर्गत ग्राॅस कमाण्ड क्षेत्रफल 27600 हैक्टयर, कृशि कमाण्ड क्षेत्रफल 24260 हैक्टयर तथा परियेाजना का प्रस्तावित सिंचन क्षेत्रफल खरीफ फसल में 13343 हैक्टयर एवं रबी फसल में 8491 हैक्टयर है।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top