Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

IMPACT: बिहार में शराब नहीं मिलने से दारोगा की तबियत खराब, भर्ती

 Tahlka News |  2016-04-05 17:15:09.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
पटना, 5 अप्रैल. बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने मंगलवार से सूबे में शराब के सेवन को बंद करने का फैसला लिया। चारों ओर इस फैसले की तारीफ भी हो रही है, लेकिन फैसले के कुछ ही घंटों के भीतर एक दारोगा सिर्फ इसलिए बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा क्योंकि उसे पीने के लिए शराब नहीं मिली। दारोगा को तत्काल प्रभाव से रेफरल अस्पताल ले जाया गया। इसके बाद उन्हें मोतिहारी स्पताल भेज दिया गया।


मिली जानकारी के अनुसार, शराब का सेवन छोड़ देने से कुंडवा चैनपुर थाने में पदस्थापित दारोगा रघुनंदन बेसरा की तबीयत मंगलवार को ढाका में अचानक खराब हो गयी। वे बेहोश होकर गिर पड़े। वे ढाका स्थित व्यवहार न्यायालय में एक कार्य से आये थे। इसी दौरान ये घटना हुई।


क्या कहते हैं डॉक्टर
रेफरल अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. आरके झा ने बताया कि दारोगा पूर्व में शराब का सेवन करते थे। अब इसका सेवन छोड़ देने के कारण ऐसी समस्या उत्पन्न हुई है। उन्हें बेहतर इलाज के लिए मोतिहारी में खुले नशा मुक्ति केन्द्र भेज दिया गया है। उनका रक्तचाप भी बढ़ा हुआ था।


क्या कहते हैं सीएम नीतीश
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनसमर्थन की वजह सरकार ने तत्काल प्रभाव से विदेशी शराब की दुकानों को बंद करने का फैसला लिया है। इसके साथ ही सरकार ने उन सभी दुकानों के लाइसेंस रद्द कर दिए हैं, जिसमें बेवरिज कार्पोरेशन लिमिटेड द्वारा नगर निगम और नगर परिषद क्षेत्र में विदेशी शराब बेची जानी थी। मंत्रिपरिषद की बैठक में कुल आठ प्रस्तावों को मंजूरी दी गई।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top