Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मिशन यूपी के लिए “मास्टर की” तलाशेंगे शीर्ष भाजपा नेता

 Tahlka News |  2016-06-11 10:13:24.0

[caption id="attachment_87737" align="aligncenter" width="744"]फाईल फोटो फाईल फोटो[/caption]

उत्कर्ष सिन्हा

लखनऊ. 12 जून से इलाहबाद में जब भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू होगी तब वहां जुटे शीर्ष नेताओं के सामने यूपी से उच्च सदन के चुनावों में हुयी रणनीतिक हार का दर्द जरूर होगा. यूपी, एमपी और उत्तराखंड में जिस महत्वाकांक्षी योजना के साथ भाजपा उतरी थी उसके फ्लाप हो जाने की कशिश भी भाजपा के जिम्मेदार नेताओं को जरुर परेशांन करेगी.

लेकिन बीती बातों को भूल कर भाजपा के नेता इस बैठक में मिशन यूपी के लिए “मास्टर की” तलाशने के लिए मंथन करेंगे इसमें कोई शक नहीं. उम्मीद की जा रही है कि बैठक के तुरंत बाद पार्टी यूपी चुनावो के लिए अपनी प्रचार समिति की घोषणा करेगी. सारा आकर्षण इस बात को ले कर है कि इस समिति का संयोजक किसे बनाया जायेगा.


इस बैठक के बाद ही पार्टी का चुनावी चेहरा भी निकलने के कयास लगाये जा रहे हैं. नेताओं को मिलने वाली तवज्जो सियासी पंडितो को इस कयास का आधार देगी. पार्टी सांसद वरुण गाँधी को आने वाले नेताओं का स्वागत करने की जिम्मेदारी दी गयी है. इस बीच चर्चा तेज हो गयी है कि चुनावों के मद्देनजर राजनाथ सिंह का बढ़ा हुआ कद भी देखने को मिल सकता है.

बीते कुछ महीनों में सिवाय असम में सरकार बनाने के, भाजपा के लिए राजनितिक सफलताओं का टोटा पड़ा रहा, उत्तराखंड में सरकार गिराने की उसकी कोशिशे नाकामयाब हुयी तो वहीँ मेघालय में भी सरकार अस्थिर करने का आरोप पार्टी पर लगा. रही सही कसर राज्यसभा चुनावों ने पूरी कर दी जिसमे निर्दलीय बता कर उतारे गए उसके प्रत्यशियों को करारी हार का सामना करना तो पड़ा ही, साथ ही साथ दूसरे दलों से में बगावत का इंतज़ार कर रही भाजपा के ही विधायक टूट गए.

इन सारी बुरी खबरों के बीच भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक रविवार से इलाहाबाद में शुरू हो रही है. यूपी में आने वाले चुनावो के मद्देनजर भाजपा ने एक सन्देश देने के लिए इलाहाबाद का चुनाव किया है. इलाहबाद नेहरू की राजनितिक धरती रही है. पार्टी अपने कांग्रेस मुक्त भारत के नारे को धार देने के लिए इसका इस्तेमाल करेगी.

इस बैठक में पार्टी के राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव भी पास किए जायेंगे और निश्चित रूप से नरेंद्र मोदी सरकार की सराहना की जाएगी. प्रस्तावो को अंतिम रूप देने के लिए पार्टी के सभी महासचिव शनिवार शाम को जुट जायेंगे.

पहला प्रस्ताव मोदी सरकार के दो साल की उपलब्धियों के बारे में बताने वाला होगा. वहीं दूसरा प्रस्ताव आर्थिक मसलों पर केंद्रित होगा. आर्थिक प्रस्ताव को अंतिम रूप देने का जिम्मा महासचिव राम माधव को सौंपा गया है.

कार्यकारिणी बैठक की शुरुआत 12 जून को शाम पांच बजे अमित शाह के भाषण से होगी और समापन पीएम मोदी के संबोधन से होगा. इसके बाद नरेन्द्र मोदी की एक रैली भी होगी.

पार्टी की बैठक के सामानांतर आरएसएस भी अपने कील कांटे दुरुस्त कर रहा है. कई जिलो में आरएसएस पथ सञ्चालन के कार्यक्रम कर रहा है तो वही अयोध्या में संत समागम भी शुरू हो चुका है. इस समागम में देश भर के संतों के साथ ही वीएचपी, संघ और बीजेपी के बड़े नेता हिस्सा लेंगे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top