Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एक और चुनावी सर्वे: 61 फीसदी लोग अखिलेश से खुश, मगर विधानसभा होगी त्रिशंकु

 Girish Tiwari |  2016-09-04 09:06:15.0

एक और चुनावी सर्वे, 61 फीसदी लोग अखिलेश से खुश, मगर विधानसभा होगी त्रिशंकु

लखनऊ. चुनाव पूर्व सर्वेक्षण का सिलसिला शुरू हो गया है और सियासी पंडित यूपी की विधानसभा के आने वाले स्वरुप के कयास लगाने में जुटे हुए हैं. ऐसे में सबसे ताजा सर्वे आया है सी-वोटर का. इस सर्वे एजेंसी का दावा है कि इस सर्वे को अगस्त महीने में किया गया और सभी 403 विधानसभा सीटों पर 20 हजार 642 लोगों से बात की गयी.

हांलाकि सर्वे के नतीजे बताते हैं कि सूबे की अगली विधान सभा त्रिशंकु होने के आसार है क्योंकि कोई भी दल बहुमंत पाने की स्थिति में नहीं है मगर बतौर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को 61 फीसदी लोग पसंद कर रहे हैं.

मगर जब बात सीटो की हो तो यह बढ़त कारगर नहीं दिख रही. सर्वे के मुताबिक समाजवादी पार्टी को अधिकतम 149 सीटे ही मिलती दिख रही हैं. इस मामले में कड़ी टक्कर भाजपा से मिल रही है. बसपा तीसरे स्थान पर है जबकि कांग्रेस का हाल बेहाल रहने वाला है.


वोटो का प्रतिशत भी लगभग सामान ही दिखाई दे रहा है. समाजवादी पार्टी और बीजेपी को 27 से 28 फीसदी वोट मिलने की उम्मीद है. मगर समाजवादी पार्टी के लिए चिंता कि बात यह है कि 59 फीसदी लोग सूबे में सरकार बदलने के पक्ष में खड़े दिखते हैं. यहाँ 33 फीसदी लोग ही मौजूदा सपा सरकार को दोबारा सत्ता में देखना चाहते हैं.

सीटों को जो आकलन सी-वोटर ने किया है, उसके मुताबिक यूपी विधानसभा में स्थिति कुछ ऐसी रहेगी.
भारतीय जनता पार्टी : 2012 में 47 सीटें पाने वाली बीजेपी को 134 से 150 तक सीटें मिल सकती हैं.
बहुजन समाज पार्टी : 2012 में बीएसपी को 80 सीटें मिली थीं. इस बार उसे 95 से 111 तक सीटें मिल सकती हैं.
समाजवादी पार्टी : 2012 में सपा ने 224 सीटें हासिल की थीं. इस बार वह 133 से 149 तक सीटें पा सकती है.
कांग्रेस: 2012 में 28 सीटें जीतने वाली कांग्रेस का आंकड़ा 5 से 13 सीटों तक ही पहुंच सकता है।
-अन्य दलों को पिछले चुनाव में 27 सीटें मिली थीं। इस बार वे भी 4 से 12 सीटों तक सिमट सकते हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top