Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

चीन ने रोका ब्रह्मपुत्र का पानी

 Vikas Tiwari |  2016-10-01 15:26:21.0

ब्रह्मपुत्र

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली. भारत में हुए उरी हमले के विरोध में सिंधु नदी के जल समझौते को रद्द करने पर विचार कर रहा था इसी बीच चीन और पाकिस्तान ने मिलीभगत कर तिब्बत में ब्रह्मपुत्र की एक सहायक नदी पर पानी रोककर पनबिजली संयंत्र लगाने की शुरुआत कर दी है। देश के लिए यह चिंता की बात है क्योंकि चीन के इस कदम से भारत समेत कई देशों को पानी मिलना बंद हो सकता है। चीन के इस कदम से भारत के असम, सिक्कम और अरुणाचल प्रदेश में पानी की कमी हो सकती है। इससे पहले पाकिस्तान यह धमकी दे चुका है कि अगर भारत ने सिंधु नदी का पानी रोका तो वह चीन के जरिए ब्रह्मपुत्र नदी का पानी रुकवा देगा।

चीन की इस कार्रवाई से पाकिस्तान के साथ चीन की मिली भगत की बात साफ़ हो गई है। तिब्बत की यारलुंग जेंगबो नाम से ज्ञात ब्रह्मपुत्र की एक सहायक नदी पर चीन ने एक परियोजना शुरू की है। चीन ने इस परियोजना पर करीब 75 करोड़ डॉलर का निवेश किया है। चीन की सरकारी एजेंसी सिन्हुआ ने इस प्रोजेक्ट के प्रशासक के हवाले से दी है।


पिछले साल चीन ने 1.5 अरब डॉलर की लागत वाले जाम पनबिजली स्टेशन का संचालन शुरु कर दिया था जिसे लेकर भारत में चिंताएं उठी थीं। ब्रह्मपुत्र नदी पर बना यह पनबिजली स्टेशन तिब्बत में सबसे बड़ा पनबिजली स्टेशन है। लेकिन चीन कहता रहा है कि उसने भारत की चिंताओं पर ध्यान दिया है। उसने साथ ही जल प्रवाह रोकने की आशंकाओं को दूर करते हुए कहा कि उसके बांध नदी परियोजनाओं के प्रवाह पर बने हैं, जिन्हें जल रोकने के लिए नहीं बनाया गया है।



Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top