Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुख्यमंत्री का ध्यान अब कौशल विकास पर

 Sabahat Vijeta |  2016-07-14 17:15:26.0

CM-Akhilesh-Yadav




  • मुख्यमंत्री ने कौशल विकास मिशन के तहत अधिक से अधिक नौजवानों को प्रवेश दिलाकर प्रशिक्षण में तेजी लाने के निर्देश दिए

  • पिछले चार साल में आईटीआई में सीटों की संख्या 46 हजार से बढ़ाकर एक लाख 5 हजार की गई

  • दो माह में 10 आईटीआई में 40 किलोवाॅट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किए जाएं

  • 44 नए आईटीआई का संचालन शुरू

  • मुख्यमंत्री ने व्यावसायिक शिक्षा विभाग एवं कौशल विकास मिशन के कार्याें की समीक्षा की


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कौशल विकास मिशन के तहत अधिक से अधिक नौजवानों को प्रवेश दिलाकर प्रशिक्षण में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए उन्होंने राज्य सरकार के विभिन्न विभागों तथा प्रतिष्ठित निजी संस्थानों से बेहतर तालमेल स्थापित करने के लिए भी कहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नौजवानों की संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर आईटीआई में सीटों की संख्या बढ़ाने तथा कौशल विकास मिशन को प्रभावी बनाने का प्रयास किया है। इसके परिणाम स्वरूप आईटीआई में पिछले चार साल में 46 हजार सीटों की संख्या को बढ़ाकर एक लाख 5 हजार किया गया है।


मुख्यमंत्री आज यहां व्यावसायिक शिक्षा विभाग एवं कौशल विकास मिशन के विभिन्न कार्यक्रमों की उच्चस्तरीय समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आईटीआई में बढ़ी हुई सीटों का लाभ प्रदेश के नौजवानों को दिलाया जाए, जिससे वे तकनीकी रूप से आत्मनिर्भर बन रोजगार प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि पहली बार राज्य सरकार द्वारा आईटीआई में बुक बैंक की स्थापना करायी गई है, जिसका लाभ भी जरूरतमन्द छात्रों को उपलब्ध कराया जाए। इसके अलावा, इंजीनियरिंग ट्रेड के लिए डाँगरी की व्यवस्था भी की गई है। उन्होंने आईटीआई में विभिन्न कार्याें के लिए उपलब्ध करायी गई धनराशि का शीघ्र पूरी गुणवत्ता के साथ उपयोग किए जाने के निर्देश भी दिए।


मुख्यमंत्री ने आईटीआई में स्थापित किए जा रहे स्मार्ट क्लास रूम की समीक्षा करते हुए कहा कि इस कार्य को शीघ्र पूरा किया जाए। उन्होंने प्रशिक्षण संस्था में उपलब्ध मशीनों, उपकरणों एवं साज-सज्जा की समीक्षा करते हुए कहा कि जिन आईटीआई में इनकी स्थापना के लिए स्वीकृति दी जा चुकी है, वहां तत्काल इनकी उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाए। आगामी दो माह में 10 आईटीआई में 40 किलोवाॅट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किए जाएं। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 10 और आईटीआई में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने के लिए धनराशि की व्यवस्था की गई है, जिसका शीघ्रातिशीघ्र उपयोग किया जाए।


इसके साथ ही, मुख्यमंत्री ने अनुदेशकों की भर्ती के लिए उच्च न्यायालय में पैरवी कर स्थगन आदेश वैकेट कराने के भी निर्देश दिए, जिससे अनुदेशकों की भर्ती प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जा सके। इसके अलावा, उन्होंने शिल्पकार अनुदेशक प्रशिक्षण केन्द्र की स्थापना की दिशा में तत्काल कदम उठाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिए पहले ही बजट की व्यवस्था की जा चुकी है। इसलिए इस कार्य में किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाए। उन्होंने कहा कि जिन 12 प्रशिक्षणार्थियों को ग्रासे (फ्रांस) एक्सप्रोजर हेतु 20 से 28 अगस्त, 2016 तक के लिए भेजा जाना है, उन्हें पूरी गुणवत्ता के साथ अन्तर्राष्ट्रीय एक्सप्रोजर दिलाया जाए, जिससे इन नौजवानों को इत्र उद्योग की आधुनिक जानकारी मिल सके।


इस अवसर पर मुख्यमंत्री को विभागीय अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि विभिन्न आईटीआई में अभी तक 173 स्मार्ट क्लास रूम की स्थापना की जा चुकी है। पहली बार 9 आईटीआई को आईएसओ प्रमाण पत्र प्राप्त हुए हैं। इस वर्ष 44 नये आईटीआई का संचालन भी शुरू किया गया है। वर्तमान आईटीआई में गुणवत्ता प्रशिक्षण हेतु 71 अतिरिक्त कार्यशालाएं, 109 थ्योरीकक्ष तथा 91 आईटी लैब क्रियाशील किए गए हैं।


इसी प्रकार कौशल विकास मिशन के तहत देश की जानी-मानी कम्पनियां सहयोग प्रदान कर रही हैं। जिनमें रेमण्ड्स, जी-4 एस, जनक हेल्थकेयर, कार्वी, आईएएसटीएम जैसी प्रतिष्ठित कम्पनियां शामिल हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top