Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

क्रिकेट में कुछ नयापन लाया जा सकता है : गांगुली

 Sabahat Vijeta |  2016-06-16 18:27:31.0

SAURAV_GANGULY


कोलकाता. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का मानना है कि क्रिकेट में कुछ नयापन लाया जा सकता है इसलिए दिन-रात टेस्ट मैच ज्यादा खेले जाने चाहिए। पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण और आस्ट्रेलिया के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी डीन जोंस के साथ चर्चा में हिस्सा ले रहे गांगुली ने कहा, "यह खेल का आनंद उठाने की बात है। आप यहां मनोरंजन के लिए आ रहे हैं। आपको खेल के प्रचार प्रसार की जरूरत है तभी भीड़ आएगी। हर किसी चीज में कुछ नया करने की जरूरत होती है, क्रिकेट भी इससे अछूता नहीं है।"


गांगुली ने कहा कि खत्म हो चले टेस्ट क्रिकेट को दिन-रात में कराने की जरूरत है। हालांकि उन्होंने कहा कि अच्छी क्रिकेट प्रशंसकों को दुनिया भर में कहीं भी आकर्षित कर सकती है।


गांगुली ने कहा, "इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच हाल ही में हुई टेस्ट श्रृंखला में काफी भीड़ देखने को मिली। लार्ड्स टेस्ट में मैदान खचाखच भरा हुआ था। मैं नहीं मानता कि अगर विराट कोहली और जेम्स एंडरसन आमने सामने होंगे तो भीड़ नहीं आएगी।"


बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष गांगुली ने कोलकाता के क्रिकेट क्लबों भवानीपुर और मोहन बागान के बीच पिंक-बाल सुपर लीग कराने का फैसला किया है। लीग का आयोजन 18 से 21 जून तक ईडन गार्डंस स्टेडियम में किया जाएगा।


उन्होंने कहा, "मैंने सुना है कि आस्ट्रेलिया में टेस्ट मैच तीन दिन में खत्म हो जाते हैें। कितनी बार लाल गेंद से खेले गए टेस्ट मैच आस्ट्रेलिया में तीन दिन में खत्म हुए। यह टीम की योग्यता पर भी निर्भर करता है। यह लोगों को वापस मैदान पर लाना है, जिसे आप बदलाव कहते हैं। हमें चीजों को अपनाने में समय लगता है। छह महीने बाद और कुछ मैचों बाद हम इसके लिए तैयार होंगे।"


गांगुली जब एमसीसी के कप्तान थे तब दुबई में उन्होंने गुलाबी गेंद से मैच खेला था। उन्होंने कहा कि गेंद को देखने में उन्हें किसी तरह की दिक्कत नहीं हो रही थी। पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, "गुलाबी गेंद अपने रंग के कारण ज्यादा चमकीली होती है। आप जब इंग्लैंड में होते हैं तो लाल गेंद को देख पाना कई बार मुश्किल होता है, लेकिन गुलाबी गेंद के साथ ऐसी कोई समस्या नहीं है।"


गांगुली चार दिन की सुपर लीग में गुलाबी कुकाबुरा गेंद का इस्तेमाल करेंगे। उन्होंने कहा कि गेंद बनाने वालीं कंपनी ने उनसे पिच पर और अभ्यास पिच पर ज्यादा घांस रखने को कहा है। उन्होंने कहा, "15 दिन पहले मैं जब कुकाबुरा कंपनी के साथ था तब उन्होंने मुझे सारी परिस्थति बता दी थी। उन्होंने मुझसे मुख्य विकेट पर और उसके आसपास की पिचों पर ज्यादा घांस रखने को कहा था।"


गांगुली ने कहा कि एक बार खिलाड़ी गुलाबी गेंद से खेलने के आदि हो जाएंगे तो किसी तरह की कोई समस्या नहीं रहेगी। उन्होंने कहा, "आपको उन्हें गुलाबी गेंद से खेलने देना चाहिए। एक बार आपको कमी पता चल जाए तो आप आज के दौर में उपलब्ध तकनीक से उसे दूूर कर सकते हैं। लेकिन इसको उपयोग में लाने की जरुरत है। रविचन्द्रन अश्विन जैसे किसी खिलाड़ी को गेंद दें, अगर वह इससे छह विकेट लेते हैं तो वह कहेंगे की यह अच्छी चीज है।"

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top