Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

PM मोदी ने तीन 'साइकिल वालों' को बनाया है मंत्री, जानिए 'साइकिल मिनिस्टर्स' का दम

 Abhishek Tripathi |  2016-07-06 04:36:23.0

modi_cabinet_cycle_ministersतहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली. इसे संयोग ही कहेंगे कि पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में तीन ऐसे मंत्रियों को शामिल किया है साइकिल चलाकर संसद पहुंचते हैं। ये मंत्री हैं- अनिल माधव दवे, अर्जुन राम मेघवाल और मनसुख भाई मंडवीय। इन तीनों सांसदों पर शायद ही मीडिया की नजर न पड़ी हो, लेकिन पीएम मोदी को इनका अंदाज पसंद आया और इनके कामकाज से प्रभावित होकर अपने कैबिनेट में शामिल भी किया।


अर्जुन राम मेघवाल (राज्यमंत्री)
अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने वाले मेघवाल बीकानेर से बीजेपी के सांसद हैं। मेघवाल आईएएस अफसर भी रह चुके हैं। नौकरी से इस्तीफा देकर बीजेपी के टिकट पर साल 2009 में लोकसभा सांसद बने। 2013 में उन्हें सर्वश्रेषठ सांसद का अवार्ड भी मिला। मेघवाल लोकसभा में बीजेपी के मुख सचतेक भी हैं। बीकानेर में रॉबर्ट वाड्रा के जमीन सौदों में धांधली को उजागर करने में मेघवाल का रोल काफी अहम माना जाता है। मेघवाल भाषण कला में काफी माहिर माने जाते हैं।


अनिल माधव दवे (राज्यमंत्री)
दवे मध्य प्रदेश से तीसरी बार सांसद बने हैं। दवे मूल रूप से गुजरात के आणंद के रहने वाले हैं और नर्मदा अभियान से पिछले कई दशकों से जुड़े हुए हैं। दवे लंबे समय तक संघ के प्रचारक रहे हैं। नरेंद्र मोदी जब गुजरात के सीएम थे, तब नर्मदा अभियान को लेकर दवे के कामकाज से काफी प्रभावित हुए थे। अब तक दवे पर्दे के पीछे ही काम करते आए हैं। पिछले दो विधानसभा चुनावों में दवे प्रचार समिति के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।


मनसुख भाई मंडवीय (राज्यमंत्री)
मनसुख भाई अब तक गुजरात बीजेपी में महामंत्री के पद पर थे। 2013 में सौराष्ट्र में बीजेपी के जिलाध्यक्ष रहते हुए उन्हें मोदी के कहने पर ही राज्यसभा भेजा गया था। सौराष्ट्र में बीजेपी को उम्मीद से ज्यादा सीटें मिलने का श्रेय मनसुख भाई को ही जाता है। गुजरात में 2017 में विधानसभा चुनाव को देखते हुए पीएम मोदी ने मनसुख भाई को अपने मंत्रिमंडल में लेने का फैसला लिया है।


भले ही तीनों सांसदों की कई ऐसी योग्यताएं हैं, जिनके दम पर वे मोदी मंत्रिमंडल में शामिल हुए हैं, लेकिन इनकी सादगी और साइकिल सवारी ने इनके काम में चार-चांद लगाने का काम किया है। अब देखने वाली बात ये होगी कि मंत्री बनने के बाद ये तीनों सांसद साइकिल से ही दफ्तर आते-जाते हैं या फिर सरकारी लालबत्ती वाली कार लेंगे?

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top