Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सरकारी अस्पताल में एक बच्चे की मौत, ऑक्सीजन की जगह दे दी नाइट्रस गैस

 Tahlka News |  2016-05-29 11:16:54.0

myh-hospitalतहलका न्यूज ब्यूरो
इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में सरकारी अस्पताल में दो बच्चों को डॉक्टरों ने बेहोशी की इंजेक्शन दे दी। एक बच्चे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया और दूसरे की हालत काफी गंभीर है। PWD विभाग के टे‍कनीशियन के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री ने भी पूरे मामले में कड़ी जांच के आदेश दिए हैं। बता दें कि एमवाय अस्पताल के नाम से मशहूर इस अस्पताल के नव निर्मित 'मॉड्यूलर पेडियाट्रिक ऑपरेशन थियटर' में शुक्रवार और शनिवार को दो बच्चों के ऑपरेशन हुए थे।


ये है पूरा मामला
खंडवा निवासी गणेश के आठ वर्षीय बेटे आयुष को शुक्रवार को ऑपरेशन थिएटर में ऑपरेशन से पहले ऑक्सीजन का मास्क लगाया गया। लेकिन ऑपरेशन के दौरान ही उसकी मौत हो गई। इसी तरह शनिवार को जावरा निवासी बालाराम के डेढ़ वर्षीय बेटे राजवीर की भी ऑपरेशन के दौरान हालत बिगड़ गई और अब वह वेंटिलेटर पर है। दो दिनों में दो बच्चों की हालत बिगड़ने और एक की मौत होने पर डॉक्टरों को कुछ शक हुआ। इसके बाद जांच करने पर गड़बड़ी का खुलासा हुआ।


एक गिरफ्तार
संयोगितागंज थाना के प्रभारी ओएस. भदौरिया ने बताया कि ऑपरेशन थिएटर (ओटी) में बच्चों को ऑक्सीजन के स्थान पर बेहोश करने वाली गैस (नाइट्रस ऑक्साइड) दी गई। अस्पताल प्रबंधन की ओर से की गई शिकायत पर ऑपरेशन थिएटर में पाइप लाइन बिछाने वाले ठेकेदार राजेंद्र चौधरी को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके खिलाफ लापरवाही और गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया है।


ऐसे हुई लापरवाही
सूत्रों ने बताया कि हाल में बने ऑपरेशन थिएटर (ओटी ) की छत से नीचे की ओर गैस की दो पाइप लाइनें लाई गई हैं। दोनों पाइप लाइनों के रंग अलग-अलग हैं। नीले रंग की पाइप से नाइट्रस और सफेद पाइप से ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाती है। ये दोनों रंगहीन और गंधहीन गैस होती हैं। पाइप का रंग देखकर ही मरीज को गैस दी जाती है। लेकिन सफेद पाइप में ऑक्सीजन के स्थान पर नाइट्रस गैस आई और बच्चों की जिंदगी मुश्किल में पड़ गई।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top