Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मदरसे के तीन छात्रों के पिटाई का मामला उलझा

 Tahlka News |  2016-03-30 05:29:27.0

dilkash_145931020286_650x425_033016092720

तहलका न्यूज ब्यूरो
दिल्ली,30 मार्च. 'जय माता की' न बोलने पर दिल्ली में तीन मदरसा छात्रों का पिटाई का मामला सामने आया है। हालांकि पुलिस में केस होने और मीडिया में खबर चलने के बाद अब शिकयकर्ता सुलह की बात कह रहा है। घटना बीते शनिवार की बताई जा रही है।

बता दें कि दिलकश, अजमल और नइम नाम के तीन युवकों की बेगमपुर के पार्क में पिटाई हुई थी। शिकायत में कहा गया है कि आरोपी साहिल और पिंटू ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर उनसे ‘जय माता की’ के नारे लगाने को कहा था।

madrasa-student-759_14593

नारा न लगाने पर तीनों की पिटाई की गई। बाद में पीड़ितों ने मदरसे से अपने शिक्षक मोहमम्द अजहर को बुलाया जिसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज किया। लेकिन, अब शिकायत करने वाले युवक मीडिया में कह रहे हैं कि उन्हें ‘भारत माता की जय’ नारे लगाने को कहा गया। वहीं, पुलिस कह रही है कि ये मामला नारेबाजी का नहीं बल्कि आपसी झगडे का है।


CexXp4zWwAEVO8i

डंडे से मारकर तोड़ दिया हाथ
दिलकश के मुताबिक, 'मैं और मेरे दोस्त बांस वाला पार्क में घूम रहे थे। पार्क हमारे मदरसे से करीब 300 मीटर की दूरी पर है। तभी हम लोगों पर कुछ लोगों ने हमला किया। उन्हें हमें इसलिए निशाना बनाया क्योंकि हम टोपी पहने हुए थे।' दिलकश ने बताया, 'उन्होंने हमसे ‘जय माता की’ नारा लगाने को कहा।' एेसा न करने पर उन्होंने डंडे मारकर उसका हाथ तोड़ दिया।


पुलिस ने दर्ज की एफआईआर
डीसीपी विक्रमजीत सिंह के मुताबिक, 'मंगलवार को सेक्शन 323 (घायल करने), 325 (जानबूझकर गंभीर नुकसान पहुंचाने), 341 (गलत तरीके से विरोध करने) और आईपीसी की धारा 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।' सिंह ने बताया, 'हम मेडिको-लीगल रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। दिलकश की शिकायत के आधार पर FIR रजिस्टर कर ली गई है। उसका हाथ फ्रैक्चर हो गया है। दिलकश ने बताया था कि उनसे जबरदस्ती माता की जय बोलने को कहा गया था।' दिलकश ने बताया, एक हमलावर ने उसके दोस्त अजमल को इसलिए मारा क्योंकि उसने जय माता की बोलने से मना कर दिया। जब मैंने उन्हें रोकने की कोशिश की तो मुझपर हमला कर दिया।
बताते चले कि ये तीनों स्टूडेंट्स बिहार के पूर्णिया के रहने वाले हैं। पिछले साल दिल्ली आए थे। फिलहाल, तीनों फैज-उल-उलूम गौसिया मदरसा में पढ़ते हैं। नईम ने बताया, 'हमले के कुछ मिनट बाद हम लोगों ने मदरसे की तरफ दौड़ लगा दी। हमने 100 नंबर पर फोन किया। इसके बाद पुलिस वैन में दिलकश को हॉस्पिटल ले जाया गया।' अजमल के मुताबिक, 'हमने पुलिस को दो हमलावरों के नाम बताए थे।' मदरसा कमेटी के मेंबर बिलाल के मुताबिक, 'इस इलाके में कई कम्युनिटीज के लोग रहते हैं। मैंने कभी ऐसे हमले की बात नहीं सुनी। हमारी पुलिस से रिक्वेस्ट है कि आरोपियों को जल्द अरेस्ट करे। '




Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top