Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

प्रेग्नेंसी के वक्त इस बात का रखें खास ख्याल

 Tahlka News |  2016-05-10 07:18:52.0

1100_story_week14final

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्ली. गर्भावस्था के दौरान कृत्रिम मीठे पेय पदार्थो का सेवन करने वाली महिलाओं की संतान को मोटापे का सामना करना पड़ सकता है। सोमवार को प्रकाशित एक नए शोध में यह पता चला है।


कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ मैनीटोबा के मुख्य लेखक मेघन आजाद ने बताया, "हमारे अध्ययन ने वह पहला मानव साक्ष्य उपलब्ध कराया है, जो बताता है कि गर्भावस्था के दौरान कृत्रिम मीठे पेय पदार्थों की खपत शिशु के वजन परिवर्तन से जुड़ी हुई है।" 

इस अध्ययन के लिए शोधार्थियों ने 3,033 मां-शिशु की जोड़ी का आकलन किया। इस दौरान मां द्वारा गर्भावस्था में लिए जाने वाले पेय पदार्थो का शिशु के बॉडी मास इंडेक्स पर पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन किया गया।


शोध में 30 प्रतिशत महिलाओं ने कृत्रिम पेय पदार्थो जैसे सॉफ्ट ड्रिंक और चाय-कॉफी के सेवन की बात स्वीकारी। वहीं 5.1 प्रतिशत महिलाओं में नियमित तौर पर इन पदार्थो का सेवन पाया गया और उनकी संतान के पहले साल में मोटापे के दोगुने जोखिम की संभावना देखी गई।



  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top