Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों का रजिस्ट्रेशन हुआ महंगा, जानिए अब क्‍या होगी फीस

 Girish |  2017-01-07 03:54:05.0



तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना अब महंगा हो गया है। मोटर वेहिकल एक्ट में 22वां संशोधन करते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। साथ ही राज्य सरकार ने भी प्रदेश में इसे तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है।

केन्द्र सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस की फीस में साढ़े छह गुना बढ़ोतरी कर दी है। वहीं वाहनों का पंजीकरण शुल्क यानी रजिस्ट्रेशन फीस भी तीन से छह गुना बढ़ा दिया गया है। हालांकि यह वृद्धि रजिस्ट्रेशन फीस की मूल रकम पर ही होगी। राज्य सरकार द्वारा लिए जाने वाले रोड टैक्स की दर व रकम यथावत रहेगी। बढ़ी फीस शनिवार से वसूली जाएगी।


पहले एक प्रकार की गाड़ी चलाने के लिए लर्निंग लाइसेंस बनवाने की फीस 30 रुपए लगती थी। अब इसके लिए 200 रुपए खर्च करने पडेंगे। वहीं, परमानेंट लाइसेंस के लिए अब 250 रुपए केे स्‍थान पर 700 रुपए जमा करने होंगे। यह बढोत्‍तरी केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने की है।

ये हुए है बदलाव
लर्निंग लाइसेंस के लिए अब 200 रुपए शुल्‍क लिया जाएगा। इसमें 150 रुपए लर्निंग लाइसेंस की फीस और 50 रुपए ड्राइविंग लाइसेंस की टेस्‍ट फीस है। यदि टेस्‍ट में फेल हो जाते हैं तो रिपीट टेस्‍ट के लिए 300 रुपए अतिरिक्‍त फीस देनी होगी। पहले यही फीस केवल 50 रुपए थी।

700 में बनेगा स्मार्ट कार्ड लाइसेंस

परमानेंट लाइसेंस के लिए अब 700 रुपए खर्च करने होंगे। इसमें 300 रुपए डीएल फीस, 200 रुपए डीएल जारी करने की फीस के साथ ही 200 रुपए स्‍मार्ट कार्ड के देने होंगे। पहले 250 रुपए में 200 रुपए स्‍मार्ट कार्ड का और 50 रुपए डीएल की फीस थी।

इसी तरह नए वाहनों के रजिस्ट्रेशन के मामले में मोटरसाइकिल की फीस 60 रुपये से बढ़ा कर 300 रुपये, प्राइवेट मोटरकार (एलएमवी) की फीस 200 से बढ़ा कर 600 रुपये, एलएमवी (टी) की फीस 300 से बढ़ा कर 1000 रुपये, मीडियम गुड्स व पैसेंजर वाहनों की फीस 400 से बढ़ा कर 1000 रुपये, हैवी गुड्स व पैसेंजर वाहनों की फीस 600 से बढ़ा कर 1500 रुपये, इम्पोर्टेट मोटरसाइकिल की फीस 200 से बढ़ा कर 2500 रुपये तथा इम्पोर्टेड मोटरगाड़ी की रजिस्ट्रेशन फीस 800 रुपये से बढ़ा कर 5,000 रुपये की गई है। जो वाहन इन श्रेणियों में नहीं होंगे उनकी रजिस्ट्रेशन फीस 300 से बढ़ा कर 3,000 रुपये की गई है।

रजिस्ट्रेशन के प्रमाण पत्र के तौर पर स्मार्ट कार्ड के लिए 200 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। पंजीकरण में देर कराने पर मोटरसाइकिल के लिए 300 रुपये और कार के लिए 500 रुपये प्रतिमाह विलंब शुल्क देना होगा। इस शुल्क की कोई अधिकतम सीमा नहीं होगी। पहले यह शुल्क सिर्फ 100 रुपये था।

इनका भी बढ़ा शुल्क

  • अंतरराष्ट्रीय ड्राइविंग लाइसेंस : 500 से बढ़ कर 1,000 रुपये हुई फीस।

  • ड्राइविंग लाइसेंस में वाहन की श्रेणी बढ़ाने पर देने होंगे 500 रुपये। पहले यह शुल्क स्मार्ट कार्ड में 200 व पेपर लाइसेंस में 30 रुपये था।

  • खतरनाक सामान ले जाने वाले वाहनों को अधिकृत करने के लिए 100 रुपये का शुल्क लगेगा। यह शुल्क पहली बार निर्धारित किया गया है।

  • ड्राइविंग लाइसेंस के रिन्यूवल के लिए अब 250 की जगह 200 रुपये देने होंगे।

  • ग्रेस पीरियड के बाद ड्राइविंग लाइसेंस का रिन्यूवल कराने के लिए 200 की बजाय अब 300 रुपये का शुल्क देना होगा। साथ ही देर के प्रत्येक वर्ष के लिए भी अब 50 रुपये की जगह 1000 रुपये प्रतिवर्ष की दर से अतिरिक्त फीस देनी होगी।

  • ड्राइविंग सिखाने वाले स्कूलों के लाइसेंस का नवीनीकरण शुल्क 2500 की जगह अब 10 हजार रुपये होगा।

  • ड्राइविंग स्कूलों को डुप्लीकेट लाइसेंस के लिए अब 2,500 की जगह 5,000 रुपये देने होंगे।

  • लाइसेंसिंग अथॉरिटी के आदेश के खिलाफ अपील की फीस भी 100 से बढ़ा कर 500 रुपये की गई है।

  • ड्राइविंग लाइसेंस में दर्ज पते या किसी और विवरण को बदलने के लिए 200 रुपये अदा करने होंगे। यह शुल्क पहली बार शामिल किया गया है।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top