Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

चुनाव आयोग रद्द कर सकता है 200 राजनीतिक दलों की मान्यता, नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

 Abhishek Tripathi |  2016-12-21 06:55:59.0

election_commissionतहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली. देश के ऐसे 200 राजनीतिक दल जिन्होंने पिछले 10 सालों से चुनाव नहीं लड़ा हो, चुनाव आयोग उनकी मान्यता को रद्द करने की पूरी योजना बना चुका है। मान्यता रद्द होने के बाद ऐसी पार्टियां चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। चुनाव आयोग ऐसे राजनीतिक दलों की सूचना केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (CBDT) को पत्र लिखकर देगा ताकि वह इन पार्टियों के चंदे की जांच कर सके। चुनाव आयोग ने संविधान के अनुच्‍छेद 324 के तहत अपनी शाक्तियों का इस्तेमाल किया जिसके तहत वह सभी चुनावों की कार्रवाई के नियंत्रण का अधिकार देता है।


चुनाव आयोग के अधिकारियों को शक है कि इनमें से कई राजनीतिक दल काले धन को सफेद करने के लिए बनाए गए हैं। जबकि 2005 से इन राजनीतिक दलों ने कोई भी चुनाव नहीं लड़ा है और यह पार्टियां सिर्फ पेपर पर हैं।

चुनाव आयोग ने सरकार से की थी ये भी सिफारिशइससे पहले चुनाव आयोग ने सरकार से सिफारिश की थी कि राजनीति में कालेधन और धनशोधन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए कानून में संशोधन करे जिससे कि कर में छूट उन्हीं पार्टियों को मिले जो चुनाव में सीटें जीतें और दो हजार रुपये एवं उसके ऊपर दिये जाने वाले गुप्त चंदों पर रोक लगे। आयकर कानून, 1961 की धारा 13ए राजनीतिक दलों को मकान सम्पत्ति से आय, स्वैच्छिक योगदान से होने वाली आय, पूंजी लाभ से आय और अन्य स्रोतों से आय पर कर छूट प्रदान करती है।

बता दें कि राजनीतिक दलों की ओर से अज्ञात चंदा प्राप्त करने पर कोई संवैधानिक या कानूनी पाबंदी नहीं है। लेकिन जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 सी के तहत चंदे की घोषणा की जरूरत के जरिये अज्ञात चंदे पर ‘परोक्ष आंशिक प्रतिबंध’ है। लेकिन ऐसी घोषणा केवल 20 हजार रुपये से अधिक के चंदे पर अनिवार्य है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top