Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

UP Elections 2017: अखिलेश यादव का नया स्‍टार प्रचारक है 'खजांची'

 Abhishek Tripathi |  2017-02-09 05:24:31.0

UP Elections 2017: अखिलेश यादव का नया स्‍टार प्रचारक है खजांची

तहलका न्‍यूज ब्यूरो
कानपुर. 'खजांची' कुछ बोल नहीं सकता, बड़ी मुश्किल से हंस पाता है। 'खजांची' बड़े मुश्किल से अपना सिर सीधा खड़ा कर पाता है। लेकिन समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के चुनावी अभियान का प्रमुख हिस्‍सा है। ये कहना भी कतई अतिश्योक्ति नहीं होगा कि 'खजांची' अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के लिए एक स्‍टार प्रचारक की तौर पर काम कर रहा है।

यूपी विधानसभा चुनाव 2017 को लेकर सूबे में चुनावी रैलियां कर रहे सीएम अखिलेश यादव 'खजांची' को याद करना बिल्‍कुल भी नहीं भूलते हैं। जनता के बीच में 'खजांची' को यादकर अखिलेश यादव पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हैं और तीखे सवाल भी पूछते हैं। हालांकि, अभी तक पीएम मोदी की ओर से 'खजांची' को लेकर कोई जवाब नहीं आया है।

'खजांची' का जन्‍म करीब दो महीने पहले बैंक की लाइन में हुआ था। पीएम मोदी के कड़े फैसले नोटबंदी के बाद लोगों को नोट बदलवाने या फिर नया नोट लेने के लिए बैंकों की लाइन में लगना पड़ा। इस दौरान सर्वेश देवी भी कानपुर देहात की एक बैंक में लंबी लाइन में लगीं। उस दौरान सर्वेश देवी गर्भवती थीं और लाइन में लगे रहते हुए उन्‍होंने एक बच्‍चे को जन्‍म दिया। चूंकि बच्‍चे का जन्‍म बैंक के बाहर हुआ इसलिए सभी लोगों ने उसका नाम मिलकर 'खजांची' रख दिया। इसके अलावा बैंक वालों ने सर्वेश देवी को 2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता भी प्रदान की।

'खजांची' की मां अमीर नहीं थी
यूपी चुनाव को लेकर अखिलेश यादव जब कोई भी रैली या जनसभा को संबोधित करते हैं तो वे 'खंजाची' को जरूर याद कर लेते हैं। अखिलेश यादव कहते हैं कि 'खजांची' की मां अमीर नहीं थी। उसके पास कोई काला धन नहीं था। उसने कभी बेइमानी नहीं की थी, फिर भी बैंक की लाइन में उसे अपने बच्‍चे को जन्‍म देना पड़ा। अखिलेश यादव बताते हैं कि ऐसे लाखों लोग हैं जो नोटबंदी की वजह से परेशान हुए।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top