Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

योगी ने शुरू की दबाव की राजनीति , हिन्दू महासभा को बनाया हथियार

 Utkarsh Sinha |  2017-01-20 12:37:41.0

योगी ने शुरू की दबाव की राजनीति , हिन्दू महासभा को बनाया हथियार

तहलका न्यूज ब्यूरो

लखनऊ। यूपी इलेक्शन का फाईनल राउंड शुरू हो चूका है और प्रत्याशियों के चयन के लिए हर दल में घक्मासन मचा हुआ है. मिशन 265+ के लिए कमर कसे हुए भारतीय जनता पार्टी के भीतर भी इलाकाई क्षत्रप दबाव बनाने में लगे हुए हैं. भाजपा में बड़े नेताओं के पुत्र पुत्रियों के टिकट के लिए संघर्ष तेज है तो इसी बीच पार्टी के फायर ब्रांड हिंदूवादी नेता योगी आदित्यनाथ भी अपने समर्थको के टिकट के लिए बड़ा दबाव बनाए हुए हैं. कभी यूपी के लिए मुख्यमंत्री की दावेदारी करने वाले योगी आदित्यनाथ फिलहाल भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व से खुश नहीं हैं और एक तरफ जहा वे नेतृत्व से बातचीत कर रहे हैं वही दूसरी तरफ अपने समर्थको के जरिये दबाव बनाने की राजनीति भी कर रहे हैं.

योगी के पक्ष में हिन्दू महासभा लगातार मुखर है और वे साधु संतो के बगावत का सन्देश भी दे रहे हैं. चर्चा तो यहाँ तक है कि यदि योगी के मनचाहे लोगो को पार्टी टिकट नहीं देती है तो वे जल्‍द ही भाजपा को अलविदा भी कह सकते हैं.
भाजपा से योगी की बगावत पहली बार नहीं होगी. सन 2002 के चुनावो में भी उन्होंने भाजपा के अधिकृत उम्मीदवार शिव प्रताप शुक्ल के खिलाफ गोरखपुर की सदर सीट से हिन्दू महासभा के टिकट पर डा. राधा मोहन दास अग्रवाल को लड़ाया और जिताया था. उस चुनाव के बाद ही योगी की राजनीतिक हनक बढ़ गयी थी. इस बार भी योगी करीब 20 सीटों पर अपने समर्थको के लिए टिकट मांग रहे हैं. योगी समर्थको का गुस्सा यह भी है कि योगी को पार्टी का सीएम कैंडिडेट न घोषित कर उन्‍हें साइडलाइन किया जा रहा है.

योगी की नाराजगी की खबरे बीते कई महीनो से चल रही हैं. हाल ही में रासुका से छूटे अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी यूपी विधानसभा चुनावों में योगी को अपना सीएम कैंडिडेट बनाने को तैयार है.
कमलेश तिवारी ने कहा था कि वे हिन्दू महासभा योगी आदित्यनाथ के पास प्रदेश अध्यक्ष के जरिए सीएम कैंडिडेट बनने का प्रस्‍ताव भेजेगी. अगर वह मान जाते हैं तो महासभा योगी के ही चेहरे को आगे कर चुनाव में उतरेगी.
कमलेश तिवारी का कहना है कि योगी पहले हिंदू महसभा के हैं, फिर बीजेपी के नेता हैं. योगी के गुरु महंत अवैद्यनाथ भी हिंदू महासभा के सांसद रह चुके हैं लेकिन जब योगी आदित्यनाथ राजनीति एन आए थे उस वक्त हिंदू महासभा पर चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गई थी, जिस वजह से वे बीजेपी में शामिल हो गए. कमलेश ने दावा किया की ये लगभग सही है कि बीजेपी योगी आदित्‍यनाथ को यूपी में सीएम के चेहरे के रूप में घोषित नहीं करेगी.

कमलेश तिवारी का कहना है कि अगर योगी उनकी पार्टी में आ जाये तो वो 200 से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. अगर वह नहीं मानते हैं तो भी हम 200 सीटों पर ही चुनाव में उतरेंगे. कमलेश ने दावा किया की भाजपा के कई नेता हिन्दू महासभा के संपर्क में है, उनको सिर्फ बीजेपी के टिकट की लिस्ट सामने आने का इंतजार है. जल्द ही शंकराचार्य नरेंद्रनंद हिन्दू महासभा का घोषणा पत्र भी जारी करेंगे। जिसमें हिंदू स्वराज की स्थापना, जातिगत आरक्षण खत्म करने, यूपी में छात्रसंघ बहाल कराने, महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला मित्र पुलिस की स्थापना करने जैसे वादे शामिल हैं.

हालाकि जानकारों का कहना है कि योगी ऐसे बयानों के जरिये सिर्फ नेतृत्व पर दबाव बढ़ा रहे हैं.अब जबकि भाजपा अपनी दूसरी सूची जारी करने वाली है ऐसे में योगी पार्टी नेतृत्व को इस बात का एहसास करना चाहते हैं कि उनकी उपेक्षा पार्टी की संभावनाओं पर ग्रहण लगा सकती है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top