Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

फिल्‍म रिव्‍यू: 'मशीन' की कहानी में दम नहीं

 Kirti |  2017-03-17 10:46:13.0

फिल्‍म रिव्‍यू: मशीन की कहानी में दम नहीं

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

मुंबई. फिल्म 'मशीन' अब्‍बास-मस्‍तान की सबसे कमजोर फिल्‍म के रूप में याद की जाएगी, जिसमें एक लोकेशन के अलावा सब कुछ फिसड्डी रहा. अतनी बड़ी चूक कैसे हो सकती है? अब्‍बास-मस्‍तान में से अब्‍बास के बेटे मुस्‍तफा की लांचिंग फिल्‍म है. हिंदी फिल्‍म इंडस्‍ट्री में लांचिंग फिल्‍म में किसी नए सितारे को पेश करते समय निर्देशक की कोशिश रहती है कि वह उसे मसाला फिल्‍मों के लिए जरूरी गुणों से संपन्‍न दिखाए. अब्‍बास-मस्‍तान ने भी कोशिश की. उन्‍होंने 1993 की अपनी फिल्‍म 'बाजीगर' की कहानी को तोड़ा-मरोड़ा और लगभग शाह रुख खान की तरह मुस्‍तफा को पेश किया.


अफसोस,एक तो मुस्‍तफा न तो शाह रुख खान की तरह टैलेंटेड निकले और न उन्‍हें काजोल और शिल्‍पा शेट्टी सरीखी अभिनेत्रियों का साथ मिला. यों लगता है कि मुस्‍तफा को हुनरमंद दिखाने के लिए सहयोगी और सहायक भूमिकाओं में उन्‍होंने और भी कमजोर एक्‍टर चुने.


'बाजीगर' के दिलीप ताहिल और जानी लीवर इस फिल्‍म में थोड़ी भिन्‍न भूमिकाओं में हैं. उन्‍हें और ज्‍यादा लाउड अंदाज में पेश किया गया है. अब्‍बास-मस्‍तान अपनी शैली के अनुरूप चुस्‍ती और गति बनाए रखते हैं,लेकिन इस बार दोनों गुण फिल्‍म से विरक्‍त करने में मदद करते हैं. दृश्‍य कमजोर हैं और अभिनेताओं का प्रदर्शन और भी कमजोर है.




Tags:    

Kirti ( 2104 )

Tahlka News Contributors help bring you the latest news around you.


  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top