Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

छोटीसी उम्र में "झांसी की रानी" ने देखा इंडस्ट्री का डार्क साइड

 Sonalika Azad |  2017-03-16 06:20:49.0

छोटीसी उम्र में झांसी की रानी ने देखा इंडस्ट्री का डार्क साइड

तहलका न्यूज़ ब्यूरो.

मुंबई : पूरी दुनिया में रंगभेद का विरोध किया जाता है. रंगभेद से जुड़ी कई टिप्पणियां देश में भी होती रहती हैं. बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री भी इससे अछूता नहीं है. कई बार एक्टर्स को भी रंगभेद का शिकार होना पड़ता है. ऐसा ही कुछ टीवी एक्ट्रेस उल्का गुप्ता के साथ हुआ है. उल्का गुप्ता घर-घर में झांसी की रानी के रूप में अपनी पहचान बना चुकी हैं.


उल्का ने एक इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया. उन्होंने कहा कि उन्हें सात साल की उम्र में रंगभेद का शिकार होना पड़ा था.उन्होंने कहा कि उनके डार्क स्किन कलर के कारण उन्हें कई बार रिजेक्ट किया गया. मेरे कॉम्पलेक्सन के कारण ही मुझे 'सात फेरे' में सलोनी की बेटी का रोल मिला था.


उल्का ने कहा, 'मुझे बचपन से ही एक्टिंग का बहुत शौक था. लेकिन बहुत छोटी उम्र में ही मुझे इंडस्ट्री के डार्क साइड पता चल गया था. 'रेशम डंक' के खत्म होने के बाद मैं और मेरे पापा ऑडिशंस देने जाते थे. लेकिन प्रोड्यूसर्स गोरी लड़की की तलाश में थे. उनके मुताबिक, गोरी लड़कियां अप-मार्केट होती हैं.'


उल्का के मुताबिक, अब भी कास्टिंग एजेंट प्रोडक्शन हाउस वाले गोरी लड़की लाने के लिए कहते हैं. उल्का कहती हैं, 'मैं अब ऐसे ऑडिशंस में नहीं जाती. मैं चाहती हूं मैं अपने टैलेंट से आगे बढूं.'

उल्का ने महज 7 साल की उम्र में टीवी शो 'रेशम डंक' से छोटे पर्दे पर चाइल्ड आर्टिस्ट अपने करियर की शुरुआत की. यह शो टीआरपी कम होने की वजह से छह महीने में ही बंद कर दिया गया. उल्का झांसी की रानी सीरियल में लीड रोल में थी.


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top