Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

शोध: अधिक पलक झपकाने से दिमाग होगा तेज

 Kirti |  2017-03-14 10:54:17.0

शोध: अधिक पलक झपकाने से दिमाग होगा तेज

तहलका न्यूज़ ब्यूरो


नई दिल्ली. दिमाग तेज करने के लिए बहुत अधिक प्रयास करने की जरूरत नहीं है, बल्कि पलक झपकने से ही दिमाग तेज होता है. पलक झपकाने और आंखों की रोशनी के बीच के संबंध को लेकर कई शोध हुए, लेकिन एक शोध पलकों और दिमाग के संबंध को लेकर हुआ. इस शोध की मानें तो जब हम पलकें झपकाते हैं तो दिमाग और अधिक सक्रिय हो जाता है और हम अधिक तल्लीनता से काम करते हैं.


'करेंट बॉयोलॉजी' में छपे यूनिवर्सिटी आफ सिंगापुर द्वारा किये गये शोध की मानें तो जब हम पलकें झपकाते हैं तब हम जो भी देख रहे होते हैं उसपर ध्यान केंद्रित करते हैं. शोधकर्ताओं की मानें तो जब भी हम पलकें झपकाने के दौरान आंखों को बंद करते हैं तब आखें खोलने के बाद आंखों की पुतली वापस एक ही स्थिति पर नहीं आती, बल्कि पुतली की स्थिति बदल जाती है. यही प्रक्रिया दिमाग को अधिक सक्रिय बनाती है. पलकें झपकाने के दौरान आंखों से तरल पदार्थ निकलता है जिसके कारण आंखें सूखती नहीं और इससे आंखों में जलन और खुजली नहीं होती है. जापान की ओसाका युनिवर्सिटी द्वारा किये गये एक अन्य शोध की मानें तो किसी विशेष मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने से पहले दिमाग खुद को तरोताजा करने का काम करता है.


1. एक सामान्य इंसान एक साल में औसतन 62 लाख 5 हजार बार पलके झपकाता है.
2. बार-बार पलके झपकना एक बीमारी है, इसे टोसिस (ptosis) कहते हैं, यह दोनों या एक पलक को प्रभावित करता है.
3. कंप्यूटर पर काम करने वाले लोग कम पलकें झपकाते हैं, जिससे आंखों में सूखेपन की समस्या हो सकती है, ऐसे लोगों को एक सेंकेंड में तीन से चार बार पलकों को झपकाना चाहिए.







Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top