Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

रेड लाइट एरिया में लगेगी पंडित नेहरू की मूर्ति

 Tahlka News |  2016-04-22 10:32:50.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
इलाहाबाद, 22 अप्रैल. देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की मूर्ति इलाहाबाद के रेड लाइट एरिया में लगेगी। पंडित जवाहर लाल नेहरू इलाहाबाद में उनके जन्म स्थान मीरगंज में लगेगी। इलाहाबाद हाईकोर्ट के दखल के बाद इस 'बदनाम' इलाके में लगेगी पंडित नेहरू की मूर्ति लगेगी।


देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की मूर्ति इलाहाबाद में एक ऐसे जगह पर लगने जा रही है जहां कोई भी सभ्य आदमी जाना तक पसंद नहीं करता, लेकिन अब इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद शहर में जिस्मफरोशी के लिए बदनाम मीरगंज मोहल्ले के रेड लाइट एरिया में उनकी मूर्ति लगेगी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस बाबत शहर के डीएम को चार हफ्ते में जरूरी कदम उठाए जाने का आदेश दिया है।


कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई करते हुए कहा कि देश के पहले प्रधानमंत्री के जन्म स्थान पर उनकी मूर्ति लगाए जाने और उसे धरोहर के तौर पर संरक्षित कर उसकी बेहतर रखरखाव की मांग पूरी तरह जायज है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद के बाद रेड लाइट एरिया में तब्दील हो चुके इलाहाबाद के मीरगंज इलाके में पंडित नेहरू की मूर्ति लगाए जाने और इस मोहल्ले को राष्ट्रीय धरोहर के तौर पर विकसित करने रास्ता साफ हो गया है।


पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद के चौक इलाके के मीरगंज मोहल्ले में हुआ था। समय के साथ-साथ यह मोहल्ला बदनाम गलियों में तब्दील हो गया। देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित नेहरू के जन्म स्थान मीरगंज में पहले तवायफों की महफि़ल सजती थी। नाच-गाना होता था, लेकिन आजादी के कुछ बरसों बाद मीरगंज की गलियों में जिस्मफरोशी का धंधा पूरे जोर से शुरू हो गया। आज पंडित नेहरू की जन्मस्थली मीरगंज की पहचान यूपी में जिस्मफरोशी के सबसे बड़े अड्डे के तौर पर होती है।


इलाहाबाद के सामाजिक कार्यकर्ता सुनील चौधरी ने नेहरू के जन्म स्थान से जिस्मफरोशी का धंधा बंद कराकर यहां पंडित नेहरू की मूर्ति लगाने, जन्म स्थली को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने के साथ मीरगंज मोहल्ले का सौंदर्यीकरण कराकर इसे नई पहचान दिलाने की मुहिम चला रखी है। इलाहाबाद जिला प्रशासन से कई बार गुहार लगाने के बाद भी जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो सुनील चौधरी ने कुछ दिनों पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।


जस्टिस तरुण अग्रवाल और जस्टिस पीसी त्रिपाठी की डिवीजन बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए सुनील चौधरी की मांगों को जायज करार दिया और इलाहाबाद के जिलाधिकारी को चार हफ्ते में उचित फैसला लेने को कहा है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top