Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

IIM से ग्रेजुएट हुई और फिर छोड़ दी लाखों की सैलरी पैकेज गरीब बच्चों का भविष्य संवारने को

 Anurag Tiwari |  2016-12-26 08:09:30.0

GARIMA VISHAL, mujaffarpur, bihar, infosys, IIM Lucknow, Bhuvneshwar, MNC, DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION, Manipal


तहलका न्यूज ब्यूरो

पटना. आमतौर आईआईएम से ग्रेजुएट होने वाले स्टूडेंट्स का सपना होता है, लाकों करोड़ों के पैकेज वाली एक बढ़िया नौकरी. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो पैसे का मोह छोड़ समाज के बारे में सोचते हैं. इन्हीं अलग सोच वालों में शामिल हैं बिहार की गरिमा विशाल, जिन्होंने लाखों का पैकेज छोड़ अपने होम टाउन मुजफ्फरपुर में गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए एक अनोखा स्कूल खोला है. इस स्कूल का नाम है DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION
.

GARIMA VISHAL, mujaffarpur, bihar, infosys, IIM Lucknow, Bhuvneshwar, MNC, DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION, Manipal

मूल रूप से बिहार के मुजफ्फरपुर जिले की रहने वाली गरिमा विशाल ने देश के सर्वोच्च संस्थानों में शामिल आईआईएम लखनऊ से मैनेजमेंट की पढाई की. इसके बाद उन्हों दुनिया की जानी-मानी इंडियन आईटी कंपनी इनफ़ोसिस में अपन करियर शुरू किया. जहां उन्हें सालाना लाखों की सैलरी मिल रही थी. लेकिन अचानक उन्हें आसपास के गरीब बच्चों को देखकर एहसास हुआ कि जीवन का मकसद अछ्छी नौकरी और सैलरी ही नहीं बल्कि अपने सामाजिक दायित्व को निभाना है.

इसी सोच के साथ गरिमा भुवनेश्वर स्थित इनफ़ोसिस की फैसिलिटी से अपनी नौकरी छोड़ लौट चलीं अपनी मातृभूमि की तरफ. यहां आकर उन्होंने गरीब बच्चों को भी क्वालिटी एजुकेशन देने के लिए स्कूल खोला. इस स्कूल की खासियत है कि यहां सभी तरह के सोशल और इकनोमिक बैकग्राउंड वाले बच्चे पढ़ते हैं.

GARIMA VISHAL, mujaffarpur, bihar, infosys, IIM Lucknow, Bhuvneshwar, MNC, DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION, Manipal

गरिमा ने अपनी शुरूआती पढ़ाई हजारीबाग के इंदिरा गांधी बालिका विद्यालय से की, उसके बाद वे सीतामढ़ी के एक स्कूल में पढ़ीं. उन्होंने हाईस्कूल पटना के बीडी पब्लिक स्कूल से किया. उन्होंने अपनी 12वीं की पढ़ाई केंद्रीय विद्यालय, पटना से पूरी की. इसके बाद उन्होंने
मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
में दाखिला लिया, जहां से उन्होंने बी. टेक की अपनी पढ़ाई पूरी की. मणिपाल से ही उनका कैंपस सेलेक्शन इंफोसिस में हुआ. लेकिन नौकरी के दौरान ही उन्होंने आगे पढ़ने का मन बनाया और एमबीए करने के लिए आईआईएम द्वारा आयोजित कैट एग्जाम में अपीयर हुईं. कैट में अच्छी रैंक आने के चलते उनका सेलेक्शन आइआइएम, लखनऊ में हुआ. यहां पढ़ाई पूरी करने के बाद उनका कैंपस सेलेक्शन गुड़गांव में जेडएस नाम के एमएनसी में हुआ.

GARIMA VISHAL, mujaffarpur, bihar, infosys, IIM Lucknow, Bhuvneshwar, MNC, DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION, Manipal

गरिमा जब इनफ़ोसिस भुवनेश्वर में काम कर रहीं थीं, तभी ऑफिस के आसपास के गरीब बच्चों को देखकर उनके मन में ख्याल आया कि उन्हें पढ़ाना चाहिए. इसके लिए उन्होंने उन बच्चों को इंग्लिश, मैथ्स और हिंदी की ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी. वे ऑफिस के बाद हर शाम बच्चों के लिए क्लास लगाती थीं. इसी बीच उनका ट्रान्सफर हो गया. लेकिन तबतक वे उन बच्चों को इतना सिखा चुकी थीं कि उन बच्चों का एडमिशन अच्छे इंग्लिश स्कूलों में हो गया. उन्होंने इसके लिए बच्चों की फीस भी अपनी सैलरी से भरी.

बच्चों की सफलता देख गरिमा को ऐसी धुन सवार हुई कि उन्होंने नौकरी छोड़ अपने होम टाउन वापस मुजफ्फरपुर आने का फैसला कर लिया. यहां आकर उन्होंने एक सर्वे किया. फिर अपने सपनों को मूर्त रूप देने के लिए
DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION
नाम से स्कूल खोल दिया


GARIMA VISHAL, mujaffarpur, bihar, infosys, IIM Lucknow, Bhuvneshwar, MNC, DEJAWOO SCHOOL OF INNOVATION, Manipal


गरिमा ने बच्चों को पढ़ाने के लिए इनोवेटिव स्कूल में टीचर्स की टीम भी तैयार की है. उन्होंने बच्चों को पढ़ाने के लिए उन महिलाओं को साथ लिया जो खुद एजुकेटेड हैं और अपनी घर गृहस्थी संभाल रही थीं. साथ ही उन्होंने ऐसी यंग लड़कियों को इंगेज किया जो पढ़ी-लिखी तो हैं, मगर उनकी फॅमिली उन्हें बाहर रहकर जॉब करने की इजाजत नहीं दे रही थी. वे एशिया टीचर्स को रिक्रूट कर उन्हें ट्रेन करती हैं. इस दौरा हर हफ्ते उनका टेस्ट भी होता है और उन्हें बच्चों को पढ़ाने नए टिप्स दिए जाते हैं.

गरिमा का कहना है कि उनके पिता ने ही उन्हें हायर एजुकेशन के लिए इंस्पायर किया. इसी के चलते वे इंजीनियरिंग के बाद मैनेजमेंट की पढ़ाई कर सकीं. उनका कहना है कि वे अपनी मातृभूमि के लिए कुछ करना चाहती थी. वे कहती हैं कि उन्हें अपनी ससुराल से भी काफी सहयोग मिल रहा है. अब उनका सपना है कि बिहार के हर जिले में इस तरह का स्कूल खोला जाए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top