Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

विजय रुपानी होंगे गुजरात के नए CM, रविवार को लेंगे शपथ

 Abhishek Tripathi |  2016-08-06 02:07:14.0

vijay_rupaniतहलका न्यूज ब्यूरो
अहमदाबाद. विजय रुपानी गुजरात के नए मुख्यमंत्री होंगे। शुक्रवार शाम गांधीनगर बीजेपी दफ्तर में पार्टी के विधायक दल की बैठक के बाद रुपानी के नाम की घोषणा की गई। इसके साथ ही अब तक सीएम की रेस में सबसे आगे माने जाने वाले नितिन पटेल को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा। रुपानी रविवार को शपथ ग्रहण करेंगे।


बीजेपी विधायक दल की बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और आनंदीबेन पटेल ने भी शि‍रकत की। बताया जाता है कि सीएम के नाम को लेकर विधायक दल की बैठक में आनंदीबेन और अमित शाह के बीच तकरार हुई। शाह रुपानी को सीएम बनाने पर अड़े थे तो आनंदी नितिन को अपना उत्तराधिकारी बनाना चाहती थीं। फिर वी सतीश ने पीएम मोदी को फोन किया और आनंदीबेन से उनकी बात कराई गई। आखिरकार अमित शाह के करीबी माने जाने वाले विजय रुपानी को सीएम और नितिन पटेल को डिप्टी सीएम बनाने के फॉर्मूले पर सहमति बनी।


गुजरात के मुख्यमंत्री की गद्दी पर बैठने जा रहे विजय रुपानी की अगली राह आसान नहीं होगी। उन्हें वो काम करने होंगे, जो आनंदीबेन न कर सकीं। रुपानी के लिए सबसे अहम कामों में सुशासन देना, सरकार से नाराज चल रहे पटेल और दलित समुदाय को शांत करना और सरकार-पार्टी के बीच संबंधों को मजबूत बनाना शामिल हैं। बीजेपी को मुख्यमंत्री पद के लिए ऐसे चेहरे की सख्त जरूरत थी जो पाटीदारों और दलितों को शांत कर सके। लेकिन गैर-पाटीदार समुदाय से आने की वजह से रुपानी के लिए ये काम आसान नहीं होगा।


कौन हैं विजय रुपानी?
आनंदीबेन पटेल के इस्तीफे के बाद विजय रुपानी को गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के तौर पर चुना गया है। गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष विजय रुपानी की संगठन में अच्छी पकड़ है। रुपानी राजकोट पश्चिम से विधायक हैं। उनके पास गुजरात सरकार में परिवहन, वॉटर सप्लाई और लेबर एंड एम्प्लॉय जैसे मंत्रालय भी हैं।


विश्वसनीय चेहरा हैं रुपानी
आनंदीबेन के गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य में पार्टी का संगठन कमजोर हो रहा था। बीजेपी की अंदरूनी उठापठक हाईकमान के पास जा रही थी। यही वजह थी कि संगठन को मजबूत बनाने के लिए विजय रुपानी को अध्यक्ष बनाया गया। हालांकि विजय रुपानी खुद सरकार में भी परिवहन मंत्री की भूमिका में हैं। ऐसे में सरकार चलाने का अनुभव भी उनके पास करीब एक साल का है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top