Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

#HappyNavratri: आज इन उपायों को करने से खुश होंगी माँ शैलपुत्री

 Vikas Tiwari |  2016-10-01 03:51:29.0

shailputri4_2016_4_8_85729
तहलका न्यूज़ ब्यूरों
लखनऊ:
 कहते हैं कि नवरात्री में सही विधि-विधान से पूजा की जाए तो जीवन के तमाम कष्ट दूर हो जाते हैं और आम इंसान भी सिद्धी प्राप्त कर लेता है. साथ ही उसे मां की असीम कृपा भी मिल जाती है.  नवरात्र के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्र माता की कृपा पाने का पर्व है। इस पर्व को पूरी श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाएं।


नवरात्र के पहले तीन दिन मां पार्वती, अगले तीन दिन माता लक्ष्‍मी और अंतिम तीन दिन माता सरस्‍वती के लिए समर्पित हैं। नवरात्र में कुछ बातों का ध्यान रख आप सभी संकटों से मुक्ति पाकर मां भगवती की कृपा पा सकते हैं।

पूरे नवरात्र किसी पर भी क्रोध न करें। इन दिनों प्रसन्नचित रहिए। बुजुर्गों को पूरा सम्मान और बच्चों को खूब स्नेह दें। नवरात्र में सोने-चांदी के गहने, कपड़े, बर्तन आदि कुछ न कुछ अपनी सामर्थ्य के अनुसार अवश्य खरीदें। इन्हें उपयोग में लाने से पहले मां के चरणों में अर्पित करें। ऐसा करने से घर में सौभाग्य आता है।


सुबह-शाम घर में जो भी भोजन बनाएं सबसे पहले माता रानी को भोग लगाएं। इसके बाद ही घर के सदस्य इसे ग्रहण करें। नवरात्र में दान पुण्य करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। प्रतिदिन कन्याओं को उपहार अवश्य दें। गरीब-बेसहारा लोगों की सहायता करें। नवरात्र में किसी के साथ धोखा न करें, न ही किसी का पैसा हड़पें। माता रानी की आराधना ही आपको आर्थिक रूप से सक्षम बनाएगी।


अगर किसी कार्य में बाधा आ रही हो तो नवरात्र में शुक्रवार के दिन नया लाल सूत्री वस्त्र लेकर उसमें जटायुक्त नारियल बांधें। माता का स्मरण करते हुए नारियल से अपनी मनोकामना सात बार कहें। फिर इसे बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें।

विजयदशमी के दिन हनुमान जी के मंदिर में लाल ध्वजा लगाएं। ऐसा करने से सभी तरह के संकट दूर हो जाएंगे। व्यापार में वृद्धि के लिए नवरात्र में किसी भी रात्रि में साबुत फिटकरी लेकर उसे अपने प्रतिष्ठान पर 31 बार उतारकर बाहर किसी भी चौराहे पर जाकर इसे उत्तर दिशा में फेंक दें।


अष्टमी के दिन मां लक्ष्मी के चित्र के समक्ष घी का नौ बत्तियों का दीपक जलाएं। ऐसा करने से मां की कृपा प्राप्त होती है और धन लाभ होता है। नवरात्र में सभी व्रत न रख पाएं तो पहला और आखिरी व्रत अवश्य रखें। इन दिनों व्यसनों को त्याग दें।


 

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top