Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

J-K: जानिए कैसे हमारे जवानों ने बारामूला को उरी नहीं बनने दिया

 Vikas Tiwari |  2016-10-03 03:52:27.0

baramula-sena-camp
तहलका न्यूज़ ब्यूरों

जम्मू-कश्मीर:
पीओके में भारत के सर्जिकल स्ट्राइल के बाद आतंकियों ने जम्मू कश्मीर के बारामूला में बीती रात 46 राष्ट्रीय राइफल्स के कैंप पर हमला बोल दिया. रात करीब साढ़े दस बजे आतंकियों ने एके-47 और ग्रेनेड से हमला किया. अंधाधुंध फायरिंग करते हुए आतंकी सेना के कैंप के अंदर घुसने की फिराक में थे, लेकिन सतर्क सुरक्षाबलों ने फौरन जवाबी कार्रवाई की. इस हमले में दो आतंकी ढेर हो गए.


आइए हम आपको बताते हैं कि आतंकियों ने कैसे इस हमले को अंजाम दिया और कैसे सेना के जवानों ने तुरंत जवाबी कार्रवाई की. आतंकी हमले के बाद सुरक्षाबलों ने पलक झपकते ही मोर्चा संभाल लिया. इस दौरान दोनों तरफ से भारी गोलीबारी हुई. शुरुआती फायरिंग के बाद ही सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई में दो आतंकवादी ढेर हो गए थे. बाकी आतंकवादियों की तरफ से रुक-रुक कर फायरिंग जारी रही.


आतंकवादियों ने राष्ट्रीय राइफल्स के कैंप के मेन गेट और उससे सटे बीएसएफ की इको-40 कंपनी के कैंप पर अंधाधुंध फायरिंग की और ग्रेनेड दागे. इस दौरान बीएसएफ का एक जवान घायल भी हो गया. सेना की तरफ से करीब तीन घंटे तक चली जवाबी कार्रवाई के बाद रात करीब डेढ़ बजे फायरिंग रुक गई. हालांकि तलाशी अभियान जारी है. जम्मू एवं कश्मीर के बारामूला जिले में सैन्य शिविर पर रविवार रात को आतंकवादी हमला किया गया.


इस हमले में सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) का एक जवान शहीद हो गया जबकि अन्य घायल हो गए. उरी हमले और हाल में पीओके में सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ही सुरक्षा एजेंसियों को हाई अलर्ट पर रखा गया था. गाड़ी और एंबुलेंस से आए ये आतंकवादी दो गुटों में बंट गए.


खबरों के मुताबिक पहले गुट ने राष्ट्रीय राइफल्स के कैंप के मुख्य प्रवेश द्वार पर हमला बोला. वहीं दूसरे गुट ने झेलम नदी के किनारे से कैंप पर हमला किया. फिदायीन आतंकवादियों ने एके-47 और ग्रेनेड से हमला किया. सेना के उत्तरी कमान के मुताबिक, राष्ट्रीय राइफल्स शिविर में स्थिति नियंत्रण में है.


उत्तरी कमान ने अपने ट्वीट कर बताया, "बारामूला में स्थिति नियंत्रण में है।"सूत्रों के मुताबिक, यह हमला रात लगभग 10.30 बजे के आसपास शुरू हुआ. आतंकवादियों ने राष्ट्रीय राइफल्स शिविर में घुसने की कोशिश की. इस दौरान भारी गोलीबारी और ग्रेनेड विस्फोट की आवाजें सुनी गई. रिपोर्टों के मुताबिक, शिविरों के पास कुछ घरों से गोलीबारी हो रही थी लेकिन इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.


सेना ने अभी इसका खुलासा नहीं किया है कि कितने आतंकवादियों ने शिविर पर हमला किया. हालांकि, चार आतंकवादियों द्वारा हमला किए जाने का अनुमान है। कुछ सूत्रों के मुताबिक, यह गोलीबारी आधी रात के आसपास बंद हो गई लेकिन आतंकवादियों का पता लगाने के लिए तलाशी जारी है जबकि कुछ रिपोर्टो के मुताबिक, दो आतंकवादी ढेर हो गए हैं लेकिन सेना ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है.


एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बारामूला से आईएएनएस को फोन पर बताया, "आतंकवादियों ने रात में बारामूला के जनबाजपोरा क्षेत्र में राष्ट्रीय राइफल्स शिविर पर गोलीबारी की, आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सेना की ओर से भी गोलीबारी की गई."साफ था कि सेना के कैंप पर दो तरफा हमला कर आतंकवादी कैंप के अंदर दाखिल होना चाहते थे.


आतंकियों की प्लानिंग कुछ वैसा ही हमला करने की थी जैसा उन्होंने उरी में सेना मुख्यालय में अंजाम दिया था. हालांकि सुरक्षाबलों की सतर्कता की वजह से आतंकियों का ये हमला नाकाम हो गया. और गृह मंत्री राजनाथ सिंह इस आतंकी हमले पर नजर बनाए हुए थे. उन्होंने देर रात एनएसए और बीएसएफ के डीजी से भी बात कर हालात का जायजा लिया. सेना ने बताया हालात काबू में हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top