Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

केजीएमयू के कार्डियोलाॅजी विभाग में 100 बेड की बढ़ोत्तरी होगी

 Sabahat Vijeta |  2016-04-10 12:21:30.0


  • मुख्यमंत्री 11 अप्रैल को केजीएमयू के कार्डियोलाॅजी विभाग के भवन के विस्तार का शिलान्यास करेंगे

  • परियोजना के पूरे होने पर कार्डियोलाॅजी विभाग की सेवाएं साल के सभी 365 दिन 24 घण्टे (24x7) उपलब्ध होंगी

  • परियोजना के पूरा हो जाने से कार्डियोलाॅजी विभाग में 100 बेड की बढ़ोत्तरी हो जाएगी

  • मुख्यमंत्री रायबरेली रोड स्थित दूसरे ट्राॅमा सेण्टर का उद्घाटन करेंगे,  बर्न यूनिट के निर्माण कार्य, आॅर्गन ट्रान्सप्लाण्ट के आईसीयू सहित केजीएमयू की 29 अन्य परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण भी करेंगे


Lucknow : Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav while addressing the press conference at CM's office in Lucknow on Thursday. PTI Photo by Nand Kumar (PTI10_16_2014_000050B)

लखनऊ, 10 अप्रैल. उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कल 11 अप्रैल, 2016 को यहां किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) के कार्डियोलाॅजी विभाग के भवन के विस्तार का शिलान्यास करेंगे। इसके निर्माण पर लगभग 105 करोड़ रुपये की लागत आने की सम्भावना है। इस परियोजना के पूरा हो जाने से कार्डियोलाॅजी विभाग में 100 बेड की बढ़ोत्तरी हो जाएगी।


इसके साथ ही, मुख्यमंत्री रायबरेली रोड स्थित दूसरे ट्राॅमा सेण्टर का उद्घाटन, बर्न यूनिट, आॅर्गन ट्रान्सप्लाण्ट के आईसीयू के शिलान्यास सहित केजीएमयू की 29 अन्य परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण भी करेंगे।


यह जानकारी देते हुए आज राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि केजीएमयू में हर साल बेहतर इलाज के लिए आने वाले मरीजों में हृदय रोग के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। वर्तमान में कार्डियोलाॅजी विभाग में मौजूद संसाधनों एवं सुविधाओं से उनका समुचित उपचार कर पाना सम्भव नहीं हो पा रहा है।


इसके मद्देनजर कार्डियोलाॅजी विभाग की सेवाओं को साल के सभी 365 दिन 24 घण्टे (24x7) मुहैया कराने के लिए कार्डियोलाॅजी विभाग के भवन के विस्तार का शिलान्यास किया जा रहा है। भवन के निर्माण के लिए पहले चरण में राज्य सरकार ने लगभग 48 करोड़ रुपये की अनुमति प्रदान कर दी है।


प्रवक्ता ने कहा कि केजीएमयू में उच्च विशिष्टता वाले 9 विभागों जैसे मेडिकल आॅन्कोलाॅजी, थोरेसिक सर्जरी, वेस्कुलर सर्जरी, पल्मोनरी एण्ड क्रिटिकल केयर मेडिसिन, नेफ्रोलाॅजी, इण्डोक्रायोनोलाॅजी, मेडिकल गैस्ट्रो इन्ट्रोलाॅजी, न्यूक्लियर मेडिसिन, इण्डोक्राइन सर्जरी का सृजन किया गया। इसके टीचिंग स्टाफ के कुल 60 पदों का भी सृजन किया जा चुका है। राज्य सरकार प्रदेश की जनता को उच्चस्तरीय चिकित्सा सेवाएं देने का कार्य कर रही है। प्रदेश सरकार के प्रयासों से एमबीबीएस की शिक्षा के लिए 600 सीटों की बढ़ोत्तरी हुई है।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top