Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जानिए, कैसे भारत ने इस फील्ड में भी पछाड़ा चीन को

 Anurag Tiwari |  2016-07-05 10:04:50.0

India maintains its supremacy over China in Pharmaceuticals, US, European Union, Africaतहलका न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली। भारत ने एक बार फिर चीन को पछाड़ा है। इन दिनों एनएसजी पर चिदं द्वारा भारत के विरोध को लेकर खबरों का बाजार गर्म है। ऐसे में चीन से वर्ल्ड मार्किट में भारत के कम्पटीशन की खबरें सुर्खियाँ बन रही है। हाल ही में भारत ने चीन और पाकिस्तान को पछाड़ कर इलीट ग्रुप मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम यानी MTCR का 35वां सदस्य बनने में सफलता प्राप्त की है।

भारत ने 2015 में भी अपने फार्मास्युटिकल्स एक्सपोर्ट को चीन से अधिक बरकरार रखा है। भारत का फार्मास्युटिकल्स एक्सपोर्ट 2015 में 7.55 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11.66 बिलियन डॉलर से बढ़कर 12.54 बिलियन डॉलर हो गया, जबकि इसी अवधि के दौरान चीन के फार्मास्युटिकल्स उत्‍पाद का निर्यात 5.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कर 6.59 बिलियन डॉलर से बढ़कर 6.94 बिलियन डॉलर रहा।


भारत का निर्यात अमरीका, यूरोपीय संघ और अफ्रीका जैसे महत्‍वपूर्ण बाजारों में चीन से अधिक है। भारत से अमरीका को फार्मास्युटिकल्स उत्‍पादों का निर्यात 23.4 प्रतिशत की वृद्धि से 3.84 बिलियन डॉलर से बढ़कर 4.74 बिलियन डॉलर हो गया, जबकि इसी अवधि के दौरान चीन के उत्‍पादों का निर्यात केवल 15 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1.16 बिलियन डॉलर से बढ़कर 1.34 बिलियन डॉलर हो पाया। भारत यूरोपीय संघ और अफ्रीका में भी फार्मास्युटिकल्स एक्सपोर्ट के क्षेत्र में आगे है और यूरोपीय संघ तथा अफ्रीका में क्रमश: 1.5 बिलियन डॉलर और 3.04 बिलियन डॉलर का निर्यात किया गया, जबकि चीन का निर्यात यूरोपीय संघ और अफ्रीका के बाजारों में कम है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top