Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

टफीसा विश्व खेलों में भारत ने कुश्ती में जीते 4 पदक

 Girish Tiwari |  2016-10-17 12:18:41.0

Tfisa World Games 


नई दिल्ली. भारत ने इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में हुए छठे टफीसा विश्व खेलों में कुश्ती में चार पदक अपने नाम किए। भारत ने एक स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक जीते। गौरतलब है कि द एसोसिएशन फॉर इंटरनेशनल स्पोर्ट फॉर ऑल (टफीसा) को अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आइओसी) से मान्यता प्राप्त है और टफिसा विश्व खेलों के छठे संस्करण में करीब हर तरह के खेल शामिल थे।

ट्रेडिशनल रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने नौ सदस्यीय भारतीय कुश्ती टीम को इन खेलों में हिस्सा लेने के लिए भेजा था और भारतीय पहलवान डालमिया ने देश को स्वर्ण पदक दिलाया। डालमिया ने 60 किग्रा भारवर्ग में अजरबेजान के मुहम्मद साहन को 4-1 से शिकस्त देकर यह स्वर्ण पदक जीता।


स्वर्ण पदक जीतने के बाद डालमिया ने कहा, "मैं स्वर्ण जीतकर बहुत खुश हूं। अजरबेजान के पहलवान अच्छे होते हैं, लेकिन यह मेरा दिन था इसलिए मैं पदक जीतने में सफल रहा। मैंने पदक जीतने के लिए काफी मेहनत की थी जिसका नतीजा मुझे मिला।"

भारतीय पहलवान विकास कुमार ने 70 किग्रा भारवर्ग में अच्छी शुरुआत करते हुए मंगोलिया के पहलवान को 5-2 से हराकर अगले दौर में जगह बनाई थी, लेकिन मुकाबले के दौरान उनकी पसली में चोट लग गई जिस कारण वह आगे नहीं लड़ पाए।

वहीं भारतीय दल के सबसे अनुभवी पहलवान लव सिंह ने देश को निराश नहीं किया और 80 किग्रा भारवर्ग में ईरान के मुहम्मद काशीफ को 5- 3 से हराया। इसके बाद उन्होंने बेलारूस के जॉर्डन को 8-6 से हराकर फाइनल में जगह बनाई। लव फाइनल मैच में अजरबेजान के मुहम्मद आलीम से 1-5 से कड़े संघर्ष के बाद हार गए और रजत पदक हासिल किया।

पहलवान लव सिंह ने दूसरी बार इन खेलों में हिस्सा लिया। लव ने 2012 में लिथुआनिया की मेजबानी में हुए टफीसा विश्व खेलों में हिस्सा लिया था, लेकिन तब वह पदक नहीं जीत सके थे।

लव ने कहा, "मैं दुखी हूं कि स्वर्ण पदक जीतने के इतने करीब आने के बाद मैं चूक गया। मैं स्वर्ण जीत सकता था, लेकिन यह खेल का हिस्सा है। आलीम ने अच्छा खेला। पिछली बार पदक नहीं जीत पाया था तो रजत मिलने से थोड़ा अच्छा लगा।"

भारत के कोच सम्राट सिंह ने कहा, "हमारे पहलवानों ने अच्छा प्रदर्शन किया और हम चार पदक जीतने में सफल रहे। हमने छह पदक जीतने का लक्ष्य बनाया था, लेकिन हम इस प्रदर्शन से भी खुश हैं। विकास भी पदक का दावेदार था लेकिन दुभाग्र्यवश वह चोटिल हो गया। इस बार टीम ज्यादा मजबूत थी।"

भारतीय पहलवान नवीन कुमार ने 90 किग्रा भारवर्ग में लिथुआनिया के पहलवान ओलगसुकघ को 5-2 से हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया। 90 किलोग्राम से अधिक सुपर हैवीवेट वर्ग में भारतीय पहलवान जोसिल ने अफगानिस्तान के मुस्तफा उतर सुल्तानी को 3-1 से हराकर कांस्य पदक पर कब्जा जमाया। भारत अंकतालिका में कुश्ती में अफगानिस्तान के साथ संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर रहा। पहले स्थान पर ईरान और दूसरे पर अजरबेजान रहे। इन खेलों में भारत सहित 110 देशों ने हिस्सा लिया।

इससे पहले भारत ने दक्षिण कोरिया-2008 और लिथुआनिया-2012 में भी हिस्सा लिया था लेकिन भारतीय टीम एक भी पदक नहीं जीत पाई थी। अगले टफीसा विश्व खेल 2020 में पुर्तगाल के शहर लिस्बन में होंगे।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top