Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मथुरा कांड: मुख्य आरोपी 'रामवृक्ष यादव' को पेंशन देती है अखिलेश सरकार

 Abhishek Tripathi |  2016-06-03 14:36:24.0

rambriksh_yadavतहलका न्यूज ब्यूरो
गाजीपुर. मथुरा के जवाहर बाग कांड में मुख्य आरोपी रामवृक्ष यादव को अखिलेश सरकार पेंशन देती है। इसमें हैरान होने वाली कोई बात नहीं है क्योंकि इससे पहले भी समाजवादी सरकार अप‍राधियों को शरण दे चुकी है। बता दें कि रामवृक्ष यादव यूपी के गाजीपुर जिले के मरदह थाना क्षेत्र के ग्राम सभा रायपुर बागपुर का रहने वाला है। रामवृक्ष यादव बाबा जयगुरुदेव का शिष्य भी रह चुका है। उसके दो बेटे और दो बेटियां हैं।


अखिलेश सरकार ने मथुरा के जवाहर बाग में तांडव करने वालों उप्रदवियों के मुखिया रामवृक्ष यादव के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया गया है। पुलिस प्रशासन ने बताया कि जितने उपद्रवी गिरफ्तार किए गए हैं उन सभी पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई होगी। बता दें, रामवृक्ष यादव ‘आजाद भारत विधिक वैचारिक सत्याग्रही’ नाम की संस्था का संचालक है। सरकारी बाग की जमीन पर कब्जे का मास्टरमाइंड भी। पुलिस का कहना है कि रामवृक्ष कहां है इसका पता नहीं चल पाया है।


क्या है राष्ट्रीय सुरक्षा कानून
राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम-1980, देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक शक्ति देने से संबंधित एक कानून है। यह कानून केंद्र और राज्य सरकार को गिरफ्तारी का आदेश देता है। अगर सरकार को लगता है कि कोई व्यक्ति देश की सुरक्षा करने वाले कामों में दखलंदाजी कर रहा है तो उसकी गिरफ्तारी की जा सकती है। कानून व्यवस्था बिगाड़ने वाले, आवश्यक सेवा आपूर्ति में बाधा बनने वालों को गिरफ्तारी का अधिकार ये कानून देता है।


rambriksh_yadav1


कौन है रामवृक्ष यादव
बता दें कि मथुरा में हुए 24 मौत के तांडव के पीछे का रामवृक्ष यादव को ही जिम्मेदार माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि पहले रामवृक्ष बाबा जय गुरुदेव का शिष्य हुआ करता था। लेकिन, बाबा की विरासत हथियाने में जोर नहीं चला, तो वो उनसे अलग हो गया। गुरुदेव की विरासत पर अधिकार को लेकर रामवृक्ष यादव और पंकज यादव के बीच विवाद चल रहा है।


यही नहीं, इसकी रंजिश में उसने गुरु के आश्रम पर हमले की साजिश भी रच डाली। लेकिन, अपनी अजीबोगरीब मांगों को लेकर धरने के नाम पर वो मथुरा के सदर बाजार स्थित जवाहरबाग में आया। और, धीरे-धीरे करीब 280 एकड़ सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा कर बैठा। अपनी गुंडागर्दी और अपराध को वह एक संस्था का नाम देकर कई घटनाओं को अंजाम देता रहा।


इमरजेन्सी के दिनों में रामवृक्ष के सहयोगी रहे लोकतांत्रिक सेनानी सुदामा यादव जो गांव में ही रहते हैं, वे राम वृक्ष यादव की बहुत तारीफ करते हैं और उन्हें बहुत बड़ा देशभक्त बताते हैं।
गौरतलब है कि मथुरा में कल रामवृक्ष यादव के नेतृत्व में इसके समर्थकों ने पुलिस पर हमला कर दिया। इसमें एसपी व एसएचओ समेत अब तक 24 लोगों की मौत हो चुकी है। उपद्रवियों में से 22 लोगों की मौत हो चुकी है। 23 पुलिसकर्मी अस्पताल में भर्ती है। रामवृक्ष यादव फरार है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top