Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जेएनयू में छात्रों ने VC को बनाया बंधक, वीसी बोले- पानी तक नहीं दिया गया

 Girish Tiwari |  2016-10-20 06:07:01.0

jnu-2_1476929922


तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्‍ली: जेएनयू में बीती रात बायोटेक के एक छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी को लेकर छात्रों ने वीसी समेत 10 अधिकारियों को बंधक बना लिया।आधी रात के बाद वीसी और प्रॉक्टर एक अपील के साथ बाहर आए और उन्होंने छात्रों को संबोधित किया, लेकिन तमाम आश्वासन के बावजूद छात्र हटने को तैयार नहीं हुए। वीसी और बाकी अधिकारी अभी भी एडमिन ब्लॉक के अंदर ही कैद हैं।


इस बीच एबीवीपी की ओर से एक बयान सामने आया है, जिसमें दावा किया गया है कि 5 दिनों से लापता छात्र नजीब जेएनयू में ही कहीं छिपा है। एबीवीपी की ओर से वीसी जगदीश कुमार से डिमांड भी की गई है कि कैंपस की जांच कराई जाए।


नहीं दिया पानी
वीसी ने सुबह बयान में बताया कि बंधक बनाए गए सभी अफसरों को रातभर खाना-पानी नहीं दिया गया। सभी फर्श पर सोए। उन्हें पत्नियों से भी नहीं मिलने दिया गया। साथ ही पानी तक नहीं दिया। देर रात होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने पुलिस कमिश्नर आलोक वर्मा से फोन पर पूरे मामले की जानकारी ली। तमाम कोशिशों के बाद भी मामला शांत नहीं हुआ।


5 दिन से लापता है स्टूडेंट
बता दें कि जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) से 5 दिन से लापता स्टूडेंट नजीब अहमद का कोई सुराग नहीं लग सका है। इससे बुधवार दोपहर करीब ढाई बजे स्टूडेंट भड़क गए। करीब 200 स्टूडेंट्स ने एडमिनिस्ट्रेटिव बिल्डिंग का घेराव किया। वाइस चांसलर, रेक्टर, प्रॉक्टर और रजिस्ट्रार समेत कई अफसरों को बंधक बना लिया। हालांकि बाद में डायबिटीज के मरीज रजिस्ट्रार को छोड़ दिया गया, लेकिन वीसी और अन्य अफसर अभी भी बंधक हैं। हालांकि छात्र नेता इसे बंधक मानने से इनकार कर रहे हैं, लेकिन मांगे पूरी होने से पहले वो उन्हें छोड़ने को भी तैयार नहीं हैं।


स्टूडेंट यूनियन ने आरोपों को गलत बताया
वहीं जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष मोहित पांडेय ने कहा कि हमने जेएनयू के प्रशासनिक भवन में किसी को अवैध रूप से बंधक नहीं बनाया। बिजली और दूसरी सभी तरह की आपूर्ति जारी है। हमने भीतर खाना भेजा है। दूसरी तरफ, पुलिस विश्वविद्यालय परिसर के बाद बाहर मौजूद है और अंदर दाखिल होने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन की अनुमति का इंतजार कर रही है।


50 हजार का इनाम घोषित
इस पूरे मामले पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने खुद दिल्ली के पुलिस कमिश्नर से बात की है। दिल्ली पुलिस ने भी मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए छात्र का पता बताने वाले के लिए 50 हजार का इनाम घोषित कर दिया है। पुलिस ने नजीब अहमद को ढूंढ़ने के लिए बाकायदा पोस्टर भी लगाए हैं।


बताया जा रहा है कि चीफ प्रॉक्टर बड़ी मुश्किल से यहां से निकल पाए। छात्रों में  इस बात का गुस्सा है कि एक छात्र की गुमशुदगी पर जेएनयू प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा। जेएनयू का छात्र नजीब 15 अक्टूबर से गायब है। छात्रसंघ के नेता नजीब की गुमशुदगी के लिए एबीवीपी के कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।


क्या-क्या हुआ बीती रात
बुधवार रात आठ बजे यूनिवर्सिटी के प्रशासनिक भवन में वीसी, रजिस्ट्रार और दूसरे प्रशासनिक अधिकारियों का घेराव कर उन्हें बाहर निकलने से रोक दिया गया। आधी रात के बाद वीसी, रेक्टर और प्रॉक्टर एक अपील के साथ बाहर आए और उन्होंने छात्रों को संबोधित किया लेकिन तमाम आश्वासन के बावजूद छात्र हटने को तैयार नहीं हुए।


वीसी ने छात्रों से कहा कि उनके कुछ साथियों की तबियत बिगड़ रही है इसलिए उनका घेराव बंद कर दें, लेकिन वीसी की अपील के बाद भी छात्र एडमिन ब्लॉक से हटने को तैयार नहीं हुए और वीसी के हटते एक बार फिर नारेबाजी शुरू कर दी।


छात्र अब भी जेएनयू के एडमिन ब्लॉक में जमे हुए हैं और उन्होंने सारी रात वहीं पर गुजारी। जेएनयूएसयू के प्रेसिडेंट महेश पांडेय का कहना है कि हम पिछले पांच दिन से लापता नजीब को तलाशने की मांग कर रहे हैं। नजीब की गुमशुदगी पर एफआईआर दर्ज न करने से छात्र नाराज हैं।


वहीं, एबीवीपी के नेता सौरभ शर्मा ने बताया कि नजीब जेएनयू का छात्र है वो पिछले तीन दिन से लापता है। काफी ढूंढ़ने पर भी उसका कोई सुराग नहीं लग रहा है। पुलिस को भी सूचना दे दी गई है। गायब छात्र के परिजन जेएनयू कैंपस में पहुंच गए हैं। उसकी मां का रो-रोकर बुरा हाल है। पुलिस कुछ भी बताने को तैयार नहीं है। नजीब के गायब होने से छात्र-छात्राओं में रोष है।


सौरभ का कहना है कि अगर नजीब नहीं मिला तो गुरुवार को पुलिस मुख्‍यालय आईटीओ पर प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एबीवीपी को बेवजह इसमें घसीटा जा रहा है। उस दिन नजीब ने ही मारपीट शुरू की थी। ये लोग अब इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने में लगे हुए हैं। वहीं एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाते हुए कहा है कि नजीब कैंपस के लोगों का ही शिकार हुआ है। उसे गायब कर दिया गया है। उन्‍होंने जेएनयू वीसी से मांग करते हुए कहा है कि कैम्‍पस में ही सर्च ऑपरेशन चलाया जाए। हर जगह की तलाशी ली जाए।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top