Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुलायम ने सिर्फ दस्तखत किये या फिर पत्र भी लिखा !

 shabahat |  2017-01-01 10:12:36.0

mulayam


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. समाजवादी पार्टी के ई-मेल से मुलायम सिंह यादव की तरफ़ से जारी किये गए पत्र में आज जनेश्वर मिश्र पार्क में हुए राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन को असंवैधानिक बताते हुए कहा गया है कि इसे राष्ट्रीय अध्यक्ष की अनुमति के बगैर बुलाया गया. इस पत्र में सम्मेलन की पूरी कार्यवाही और निर्णयों को अवैध बताते हुए प्रो. राम गोपाल यादव को दोबारा समाजवादी पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है. यह पत्र समाजवादी पार्टी के लेटर हेड पर नहीं है और मुलायम सिंह यादव के हस्ताक्षर के नीचे राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं लिखा गया है. मुलायम सिंह यादव की तरफ से इस पत्र में 5 जनवरी को जनेश्वर मिश्र पार्क में पार्टी का अधिवेशन बुलाया गया है.


मुलायम सिंह यादव के हस्ताक्षरों से जारी इस पत्र में प्रो. रामगोपाल पर अपने कुकृत्यों को छिपाने, सीबीआई से बचने और भारतीय जनता पार्टी को फायदा पहुंचाने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का अपमान करने की बात कही गई है. यह पत्र हालांकि समाजवादी पार्टी के आधिकारिक ई-मेल से भेजा गया है लेकिन कुछ ऐसी खामियां हैं जो आज जनेश्वर मिश्र पार्क में हुए सम्मेलन में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की कही बातों से मेल खाती हैं.


अखिलेश यादव ने आज के सम्मेलन में कहा कि मैंने राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद इसलिये स्वीकार कर लिया क्योंकि चुनाव में बहुत कम समय है और समाजवादी पार्टी के खिलाफ साज़िश रचने वाले मुलायम सिंह यादव से किसी भी चिट्ठी पर हस्ताक्षर करवा सकते हैं. आज मुलायम सिंह यादव के हस्ताक्षर से जारी इस पत्र में नीचे मुलायम सिंह यादव के हस्ताक्षर तो हैं लेकिन इस पत्र में दो जगह माननीय मुलायम सिंह यादव शब्द का इस्तेमाल हुआ है. साथ ही पत्र में लिखा है कि समाजवादी पार्टी को खड़ा करने में माननीय मुलायम सिंह यादव का इतिहास रहा है. इससे अखिलेश यादव के इस आरोप में दम लगता है कि चिट्ठी कोई और लिख रहा है लेकिन हस्ताक्षर मुलायम सिंह यादव के हो रहे हैं.


इस पत्र में कहा गया है कि समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की सूची राष्ट्रीय अध्यक्ष जारी कर चुके हैं. शेष सीटों पर भी प्रत्याशी जारी कर दिए जायेंगे.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top