Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जस्टिस काटजू को सुप्रीम कोर्ट के जजों का बौद्धिक स्तर लगता है काफी कम

 Anurag Tiwari |  2016-09-18 12:20:57.0

Justice, Markandey Katju, Supreme Court, Intellectual Level, Low, Nepotismतहलका न्यूज ब्यूरो

नई दिल्ली. हमेशा अपने बेबाक और विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कण्डेय काटजू को ने सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों की बौद्धिक क्षमता कम लगती है. जस्टिस काटजू ने अपने एक फेसबुक पोस्ट में सुप्रीम कोर्ट के जजों की बौद्धिक क्षमता ने सवाल उठाहे हुए लिखा कि मौजूदा दौर में सुप्रीम कोर्ट के ज्यादातर जजों का बौद्धिक स्तर काफी कम है.

जस्टिस काटजू ने लिखा है की सुप्रीम कोर्ट के ज्यादातर वर्तमान जज अपनी योग्यता के कारण नहीं, बल्कि सीनियारिटी के पुराने पड़ चुके नियमों के चलते ऊंचे पद पर पहुँच गए हैं. चीफ जस्टिस बनने के पंक्ति में खड़े जस्टिस दीपक मिश्रा बहुत कम उम्र में ही ओडिशा हाई कोर्ट के जज बन गए थे. वे हाईकोर्ट के जज अपने रिश्तेदार और पूर्व चीफ जस्टिस रंगनाथ मिश्रा के कारण बने थे.


जस्टिस काटजू ने लिखा है कि जस्टिस चालमेश्वर और जस्टिस नरिमन जैसे कुछ जज हैं बौद्धिक स्तर और चरित्र दोनों ही मामलों में बहुत ऊंचे हैं, लेकिन इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट के ज्यादातर जजों का बौद्धिक स्तर काफी कम है. उन्होंने इसके पीछे तर्क दिया है कि वे भी साढ़े 5 साल तक सुप्रीम कोर्ट के जज रहे हैं और इस दौरान जब वे कलीग जजेज से विभिन्न मसलों पर चर्चा किया करते थे.

जस्टिस काटजू के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट में उनके साथी जज ज्यादातर क्रिकेट और मौसम के बारे में बात किया करते थे. उन्होंने लिखा है की उनसे बातचीत के दौरान कभी इंटेलेक्च्युअल मामलों का जिक्र ही नहीं होता था. जस्टिस काटजू का कहना है की उन्हें उम्मीद रहती थी कि सुप्रीम कोर्ट जजों को न्यायशास्त्र से जुड़े बड़े-बड़े नामों की जानकारी होगी लेकिन उन्हें तो यह भी नहीं पता है कि दुनिया भर में मशहूर न्यायशास्त्रियों का योगदान क्या है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top