Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

कांशीराम की मूर्ती तोड़ने वालों को सजा दे हरियाणा सरकार : मायावती

 Sabahat Vijeta |  2016-05-31 12:35:57.0

mayawatiलखनऊ. बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने हरियाणा के भाजपा शासित राज्य में बसपा के संस्थापक और बहुजन नायक कांशीराम की प्रतिमा को तोड़ने की घटना की तीव्र निन्दा की है. उन्होंने इस घटना के लिये हरियाणा सरकार से दोषी लोगों के खिलाफ सख़्त कानूनी कार्रवाई की माँग करते हुये कहा कि एक तरफ तो बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के निधन के बाद उनके मानवतावादी मूवमेन्ट को गति प्रदान करने वाले कांशीराम की प्रतिमा को तोड़ने का घिनौना काम किया जाता है तो वहीं दूसरी तरफ यहाँ भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह एक ओ.बी.सी. समाज के व्यक्ति के घर कुछ दलितों के साथ खाना खाने का वैसा ही नाटक करते हैं जैसा कांग्रेस पार्टी के युवराज ख़ासकर बी.एस.पी. के शासन के दौरान उत्तर प्रदेश में किया करते थे.




आज यहाँ जारी एक बयान में मायावती ने कहा कि भाजपा आज से नहीं बल्कि जनसंघ के समय से ही अपने चाल, चरित्र व चेहरे से हमेशा ही जातिवादी प्रवृत्ति की रही है और इनकी दलित-विरोधी मानसिकता के कारण ही यहाँ दलित व पिछड़े समाज के लोगों को अपूर्णीय क्षति झेलनी पड़ी है. आज भी इसी की मानसिकता के कारण दलितों को आत्म-सम्मान व स्वाभिमान से जीने का हक़ खासकर भाजपा शासित राज्यों में नहीं दिया जा रहा है. उनको मिलने वाले ’’आरक्षण’’ के संवैधानिक हक से भी वंचित रखा जा रहा है. इतना ही नहीं बल्कि अब तो, आरक्षण की व्यवस्था को समाप्त करने की ही साजि़श की जा रही है. भाजपा ने कांग्रेस के साथ मिलकर, आरक्षण की क़ानूनी व्यवस्था को पहले ही काफी निष्क्रिय व निष्प्रभावी बना दिया है, जिस कारण सरकारी नौकरियों में अब इनकी संख्या लगातार कम होती जा रही है.



उन्होंने कहा कि इसके साथ ही दलितों के संवैधानिक व कानूनी अधिकारों को छीनने व बाबा साहेब की स्मृति से जुड़े कुछ स्थानों पर बड़ी बेदिली व काफी अधूरे मन से स्मारक व संग्रहालय आदि बनाने, तथा उनके साथ स्नान करने एवं भोजन आदि करने की भी किस्म-किस्म की नाटकबाज़ी की जा रही है. यह सब केवल सस्ती लोकप्रियता हासिल करने व उनका यथासम्भव चुनावी लाभ प्राप्त करने के स्वार्थ की ख़ातिर ही हो रहा है. वर्ना इनकी अगर नीयत साफ होती तो सबसे पहले ये लोग दलितों के प्रति अपनी हीन व जातिवादी भावना को त्यागने का काम करते, इनकी रोज़ी-रोटी से जुड़ी समस्याओं को हल करते व इनके ख़ाली पड़े हजारों आरक्षित सरकारी पदों पर भर्ती सुनिश्चित करके, रोजगार देते तथा इनके प्रति असम्मान व शोषण करने वाले लोगों को सख़्त सजा देते. परन्तु ‘‘रोहित वेमुला’’ के साथ भाजपा सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों तक का बर्ताव भी कितना ज़्यादा अपमान करने वाला क्रूर व ज़ालिम रहा है, यह पूरे देश ने देखा है, जिस कारण उस दलित छात्र को अन्ततः आत्महत्या करने को मजबूर होना पड़ा.


दलितों के साथ-साथ किसानों व अन्य पिछड़ों के मामले में भी भाजपा व इनकी सरकारों का रवैया वैसा ही क्रूर व शोषणकारी है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को दलितों के साथ परन्तु इन्हें दूर बैठाकर भोजन करने के बाद इलाहाबाद में पिछड़े वर्ग से जुड़े कुर्मी समाज के ’सरदार पटेल किसान महारैली’, में भाग लेने का नाटक किया.


हालांकि भाजपा व नरेन्द्र मोदी सरकार किसानों की कितनी ज़्यादा विरोधी है व किसानों को, उनकी ज़मीन से बेदख़ल करके उद्योगपतियों को ज़मीन देने के मामले में कितनी हद तक आगे जा सकती है, यह पूरे देश ने देखा है, जब भूमि अधिग्रहण कानून को बदलने के लिये इस नरेन्द्र मोदी सरकार ने बार-बार नया अध्यादेश लाया. परन्तु ख़ासकर राजनीतिक पार्टियों के सख़्त विरोध व किसानों की ज़बर्दस्त एकजुटता के कारण भाजपा सरकार को फिर मुँह की खानी पड़ी और उस किसान-विरोधी अध्यादेश को अन्ततः वापस लेना पड़ा.


मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा आमचुनाव के मद्देनज़र अब यहाँ खासकर दलितों, अन्य पिछड़ों व किसानों आदि को वरगलाने के लिये यह सब कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं, जबकि इसी वर्ग के पटेल/पाटीदार समाज के लोगों को अपना हक मांगने पर गुजरात राज्य की भाजपा सरकार उन्हें ’’देशद्रोही’’ बताकर, उनके नेता को जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया गया है.


साथ ही, भाजपा शासित हरियाणा राज्य में जाट समाज, जो मुख्यतः किसान है, के लोग ओ.बी.सी. वर्ग के तहत आरक्षण का कोटा मांगने व उसके समर्थन में आन्दोलन करने पर उन्हें भी ‘‘देशद्रोही‘‘ बताकर, उन पर मुकदमा कायम कर दिया गया है व अब उन्हें जेल की सलाखों के पीछे भेजने की तैयारी है. यह है वह असली वास्तविकता जो यह साबित करता है कि भाजपा व इनके एन.डी.ए. की मानसिकता दलितों, पिछड़ों व किसानों के प्रति कितनी ज्यादा घातक, क्रूर व शोषणकारी है. इसलिये ख़ासकर इन वर्गों के लोग इन स्वार्थी तत्वों के चक्कर में अब आसानी से आने वाले नहीं है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top