Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

लखनऊ महोत्सव का हिस्सा बने फोटो फेयर : निशीथ राय

 Sabahat Vijeta |  2016-08-14 15:58:29.0


foto fair


लखनऊ. नये कैमरे, लेन्स, लाइट, साफ्टवेयर, प्रिण्टर, इक्विपमेण्ट, फोटो एलबम, फोटो फ्रेम आदि तो हैं ही, सफल छायाकार बनने के लिए मशहूर छायाकारों जोधपुर के शिवजी जोशी, मुम्बई के फैशन फोटोग्राफर रफीक सैयद, दिल्ली की डाकूमेण्टरी फोटोग्राफर शर्मिष्ठा दत्ता, अनिल रिसाल सिंह व भूपेश लिटिल आदि के सेमिनार-वर्कशाप भी चल रहे हैं. यहां तक कि कैमरा रिपेयर कराने तक की सुविधा फोटो फेयर में है.


उत्तर प्रदेश पर्यटन व राज्य पर्यटन विकास निगम के सहयोग से फोटोग्राफी के नये उपकरणों और तकनीकों से परिचित कराता ‘लखनऊ फोटो फेयर’ का निःशुल्क प्रवेश, सेमिनार व वर्कशाप वाला पहला आयोजन यहां गोमतीनगर के पर्यटन भवन में 15 अगस्त तक के लिए चल रहा है. उद्घाटन शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के कुलपति निशीथ राय ने किया.


इस मौके पर निशीथ राय ने कहा कि जीवन का अनिवार्य अंग बन गई फोटोग्राफी के ऐसे कार्यक्रम आज की आवश्यकता है. फोटो फेयर लखनऊ महोत्सव जैसे आयोजनों का अनिवार्य अंग बन जाए तो अच्छा होगा. इसके लिए मैं बात भी करूंगा. राज्य सरकार भी फोटोग्राफी के लिए प्रयासरत है और पूना की तरह ही यहां भी स्तरीय फिल्म एवं टीवी प्रशिक्षण संस्थान खोलने के प्रयास हो रहे हैं. जोधपुर के प्रो.शिवजी जोशी ने कहा कि फोटोग्राफी के लिए विज़न, विजुलाइजेशन, सेंस आफर फीलिंग और दूसरे में खुद को या अपनापन खोजना जैसी चीजें होना जरूरी हैं.


फैशन फोटाग्राफर रफीक सैयद ने सजगता और आब्जर्वेशन फोटोग्राफी के लिए अत्यंत आवश्यक है. शर्मिष्ठा दत्ता का मानना थी कि उनके लिए फोटोग्राफी कई मायनों में खुद की तलाश है. इससे पहले स्वागत करते हुए एफआईपी के अध्यक्ष अनिल रिसाल सिंह ने फोटोग्राफी को सार्वभौमिक भाषा बताया जबकि स्थानीय कला महाविद्यालय के डीन भूपेश लिटिल ने कहा कि फोटोग्राफी एक तस्वीर से बढ़कर बहुत कुछ है. अंत में एडवोकेट बाबूरामजी दास, त्रिलोचल कालरा, दुष्यंत चौहान, अजेश जायसवाल, अन्य मशहूर छायाकारों बड़ी संख्या में उपस्थित विद्यार्थियों व फोटोग्राफी के शौकीनों की उपस्थिति में संयोजक मनोज चंदेल ने सभी का आभार व्यक्त किया। युगल सरस्वती वंदना का प्रस्तुतिकरण ईशा रतन-मीशा रतन ने किया.


फोटो फेयर के दूसरे व तीसरे सत्र में मुम्बई के रफीक सैयद व राजस्थानी संस्कृति को कैमरे में उतारने वाले शिवजी जोशी ने सेमिनार में अपनी सोच रखी व श्रोताओं की जिज्ञासाओं को शांत किया. फोटो फेयर में कल शर्मिष्ठा दत्ता डाकूमेटरी प्रदर्शित करेंगी और अनिल रिसाल सिंह लैण्डस्केप पर अपने विचार प्रस्तुत करेंगे. अंत में फोटोग्राफर्स क्लब का फोटो जर्नलिज्म पर सेमिनार होगा.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top